Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

Niraj Sharma

Romance

3  

Niraj Sharma

Romance

मिलन ऋतु

मिलन ऋतु

1 min
477



उमड़-घुमड़ जब-जब घिर आई, श्याम घटा घनघोर।

मधुर मिलन की ऋत बौराई, बगिया में चहुँ ओर।।


मधुप मगन, मृग, खग कलरव कर

उल्लसित करत उलेल।

हरित चमन में मोर-मयूरी

हर्षित खेलें खेल।


जलत जिया विरहिन का, प्रमुदित, चंदा और चकोर।

मधुर मिलन की ऋत बौराई, बगिया में चहुँ ओर।।


पागल मनवा इत-उत धाए, 

सुन कोयल की कूक।

केलि मयन-रति देख उठे मन

एक अजब-सी हूक।


राह तकूँ प्रिय अब तो आजा, भीगे नयना कोर।

मधुर मिलन की ऋत बौराई, बगिया में चहुँ ओर।।


सुभग कमल-दल शोभित सरवर

सुरभित मलय समीर।

कुंजगलिन में वंशी धुन सुन 

राधे होत अधीर।


सुधबुध खोए ढूँढ रही, किस ओर गया चितचोर।

मधुर मिलन की ऋत बौराई, बगिया में चहुँ ओर।।



Rate this content
Log in

Similar hindi poem from Romance