Click Here. Romance Combo up for Grabs to Read while it Rains!
Click Here. Romance Combo up for Grabs to Read while it Rains!

Abhishek Gaurkhede

Abstract


4.4  

Abhishek Gaurkhede

Abstract


पॉर्न

पॉर्न

6 mins 12.3K 6 mins 12.3K

संजय और उसके मम्मी पापा को शादी मे भोपाल जाना था । तो संजय ने मुझे फोन करके बोला भाई हम लोग शादी मे जा रहे है , तू ३ दिन के लिये मेरे यहाँ रहेगा क्या । मैने बोला ठीक है , "लेकीन तू मुझे तेरे कम्प्यूटर का पासवर्ड देकर जाएगा , ठीक है बे लेकिन साले उल्टे सीधे धंधे मत करना ।" अगली सुबह संजय और उसके मम्मी पापा भोपाल के लिए निकल गए, संजय घर पर चाबी छोड़ गया था , मै कॉलेज से आया , और मेरी मम्मी ने बताया कि संजय चाबी छोड़ कर गया है । मैंने मम्मी से कहा "ठीक है" 

मै रात को खाना खा कर , संजय के यहा सोने गया , और दरवाजा लॉक करके ,कम्प्युटर ऑन कर लिया , मै जनता था संजय साला कमीना है कुछ न कुछ तो रखा होगा , मै सारी ड्राइव देखने लगा , लेकिन कुछ भी नहीं मिल रहा था , कमीने कहां रखा है , मै यही सोच रहा था , और न मिलने पर , साले को मैसेज करने की सोच रहा था , कि उसका ही मैसेज आ गया ।

संजय : "क्या कर रहा है बे कमीने , साले अभी तक तो कम्प्युटर की सारे ड्राइव की तहक़ीक़ात कर लिया होगा" ,मैंने जवाब दिया " हाँ ", "तो कुछ मिला संजय बोला , "साले कमीने कहां छुपा कर रखा है सब , बता" ।फिर संजय ने मुझे बताया और दो दिन तक रोज़ रात को जाता , कम्प्युटर चालू करता और मेरा टाइम पास हो जाता ।आखिरी दिन था तो मै सोचा जल्दी चला जाता हूँ, तो मैंने खाना खाया और जल्दी से संजय के यहा गया  । कम्प्युटर ऑन किया लेकिन कम्प्युटर चालू ही नहीं हो रहा था , बार बार कोशिश की लेकिन कम्प्युटर चालू ही नहीं हो रहा था , मै डर गया की क्या हो गया , संजय को पता चलेगा तो गाली देगा ।  लेकिन बहुत कोशिशों के बाद भी कम्प्युटर चालू नहीं हुआ तो , मैंने सो जाना ही ठीक समझा , ।

आधी रात लगभग 1 बजे मेरी नींद टूटी कुछ आवाज़ सुन कर , देखा तो कम्प्युटर ऑन , था मै थोड़ा डर गया क्यूकि मैंने तो कम्प्युटर बंद कर दिया था , तो ये कैसे चालू हो गया । फिर मैंने सोचा शायद मै कम्प्युटर बंद करना भूल गया हो , और इस बात की भी खुशी थी की कम्प्युटर चालू हो गया , मैंने कम्प्युटर बंद किया और फिर जाकर सो गया । लेकिन फिर थोड़ी देर बाद किसी आवाज़ ने मुझे उठा दिया और देखा कम्प्युटर फिर से ऑन हो गया है , और इस बार मै पसीना पसीना हो चुका था डर के मारे , क्यूकि ये सब क्या हो रहा है मुझे कुछ समझ नहीं आ रहा था । मैंने फिर से कम्प्युटर बंद किया , जैसे ही मैंने कम्प्युटर बंद किया , मेरा फोन बजने लगा , और मैंने सोचा इतनी रात को कौन फोन कर रहा है , रात के लगभग 2 बजने आ रहे थे , मै डर से पसीना पसीना हो चुका था समझ ही नहीं आ रहा था की ये सब क्या हो रहा है । मैंने डरते हुए फोन उठाया , सामने से आवाज़ आई  "हैलो सुनील मै पॉर्न बोल रहा हूँ", मै थोड़ा शॉक वय मे  और डर के "पॉर्न ये क्या नाम होता है ,भाई ।"

 अच्छा जब पॉर्न देखते हो , तब तो ये नहीं बोलते हो की पॉर्न क्या होता है , अब पॉर्न ने तुम्हें खुद फोन किया तो ये पॉर्न , नाम क्या होता है पूछ रहे हो , अरे भाई पॉर्न मतलब एक तरह की फिल्म होती है , किसी का नाम नहीं" , 

"वो छोड़ो तुम्हें मेरा नंबर किसने दिया , और इतनी रात को मुझे कॉल क्यूँ कर रहे हो ।

आवाज़ – "तुमने ही तो दिया"                                                                                                          

सुनील - " मैंने कब दिया यार"                                                                                                         

 आवाज़ – "दो दिन से तुम रोज़ रात लगातार पॉर्न देख रहे हो ,और कल रात तो तुम यूट्यूब देखते वक़्त तुमसे पूछा गया था , इस विडियो को देखना हो तो , लॉग इन , करे और जब तुमने लॉग इन किया , तो तुम्हारा मेल आईडी मेरे पास आ गया ।"                                                                 

सुनील – "लेकिन मेरा नंबर कैसे मिला"                                                                                                   

आवाज़ – "अब आईडी आ गया तो नंबर  भी आ जाएगा न "                                                                               

सुनील – "कैसे "                                                                                                                          

आवाज़- "तुम्हें याद ही होगा कल रात तुमने एक लड़की को फोन किया था , अगर मुझसे बात करनी हो तो इस नंबर पर फोन करो और तुमने किया , और मुझे तुम्हारा नबर मिल गया।"         

सुनील – "तुम सच मे पॉर्न , तुम्हारा ये असली नाम नहीं है न"                                                                                 

आवाज़-" यही मेरा असली नाम है"                                                                                                     

 सुनील – "अबे जा बे कुछ भी बकवास मत कर "                                                                                     

 आवाज़- "अरे तुम तो गुस्सा हो रहे है , गुस्सा मत हो , तुम जब पॉर्न देखते हो तब तो ये नहीं बोलते हो की क्या बकवास देख रहे है करके , अब जब पॉर्न तुम्हें खुद कॉल कर रहा है , तो तुम्हें बकवास लग रहा है ।                                                                             

सुनील – "अबे तू कौन है , और साले बता जल्दी नहीं तो फोन कट कर दूंगा , पॉर्न बस फिल्म होती है , कोई इंसान नहीं ।"                                             

आवाज – "अच्छा तो घरवालो के साथ क्यू नहीं देखते ।"                                                                    

सुनील – "अबे पागल है क्या तू ..साले ये सब फिल्म घरवालो के साथ देखूं , क्या सोचेगे और साले इमेज है मेरी घर पर।"                                    

 आवाज – "और इस फिल्म मी तेरी बहन रहेगी तो क्या उसको भी देखेगा,घर वालो से छूप कर ।                                                

सुनील – "अबे साले क्या बकवास कर रहा है , साले बहुत मारुगा जा भी होगा तू वाह आके।"                                                  

आवाज – "अच्छा लेकिन वो भी तो किसी कि बहन होगी न ।"                                                             

सुनील – "मेरी तो नहीं है न और इतना ही तो ये सब क्यू कर रही है ।                                                          

आवाज – "हर इन्सान कि अपनी एक मजबुरी होती है या उसे कोई चीज अच्छी लगती है तभी वो , वो सब करता ।"                                     

 सुनील  – "तो भाई मुझे भी ये अच्छा लगता है देखना इसलिये देख रहा हू ।"                                                      

आवाज – "और तुम्हारी बहन रहेगी तो भी देखोगे ।"                                                                  

सुनील –" अबे साले बहन है मेरी और उसका गला नहीं काट दुंगा उसने ये सब किया था "।                                                  

आवाज – "तुम्हारी बहन है तो उसकी इज्जत है और दुसरो कि बहनो की नहीं है , सच बोलू तो तुम लोग अपनी बहन कि भी इज्जत नहीं करते हो , तुम्हे डर कही वो कुछ गलत करेगी तो तुम उसके भाई हो तो तुम्हारी भी इज्जत जायेगी इसलिये बस."                                                                                       

सुनील -  "मेरी बहन है कैसे भी रहूँ उसके साथ ।"                                                                 

आवाज –" और दुसरों की बहनो के साथ कैसे रहेगा ।"                                                                 

सुनील – अबे जरुरत है वो सब देखतेहैं ,हर उम्र के लोग देखते हैं ।                                                                       

आवाज – तू कैसे देखेगा ये बता , तू जिस तरह दूसरों कि बेहानो को देखता है , तेरी बहन को भी कोई न कोई तो जरूर वैसे ही नज़र से देखता होगा , सोचले अगर आज तू दुसरो कि बहनो इज्जत करेगा तो , एक न एक दिन तेरी बहन कि और तेरी भी इज्जत होगी ।    

सुनील – "इतना बडा lलेक्चर सिर्फ एक पोर्न देखने पर", ,                                                             

 आवाज –" नहीं, यही पोर्न देख देख के तेरी सोच बद्लेगी , तू हर लडकी को इस पोर्न वाली लडकी कि तरह देखेगा और ऐसा न हो एक  दिन तेरी नजर मे तुझे तेरी बहन भी ऐसी नजर आये और ऐसा हो गया तो , बहन और भाई का रिश्ता बदनाम हो जायेगा इसलिये  बोल रहा हूँ"                                                                      

सुनील –" इस तरह से तो मैने कभी सोचा ही नहीं , गळती हो गयी मुझसे मुझे माफ करना, लेकीन तुम हो कौन भाई । "                                       

आवाज –" बताया तो था पोर्न हू "                                                                        

सुनील – "अरे यर , सच बोलो , अच्छा पोर्न हो तो , अगर हर कोई ये  बात माने लगे तो तुम्हारा तो धंदा ही बंद हो जायेगा ।आवाज़ कटने लग जाती है और फोन कट हो जाता है ।"

सुनील झटके से नींद से उठता है , देखता है १० बज रहे हैं , वो सोचता है शायद उसने कोई सपना देखा होगा तो ,जैसे ही वो फोन को देखता है, तो एक अननोने से वो लगभग २ घंटे तक बात किया है काल रात ,वो ट्रूकालर मे चेक करता है , तो पोर्न नाम से डिस्प्ले होता है ।


                                                                                                                               



Rate this content
Log in

More hindi story from Abhishek Gaurkhede

Similar hindi story from Abstract