Click Here. Romance Combo up for Grabs to Read while it Rains!
Click Here. Romance Combo up for Grabs to Read while it Rains!

Ajeet Kumar

Tragedy


4.3  

Ajeet Kumar

Tragedy


माँ

माँ

5 mins 204 5 mins 204

माँ ने पोटली में बांधकर कुछ उबला चना और बासी रोटी रख दी थी । वो भेड़ों को लेकर सुबह ही चला था और दोपहर होने को आयी थी । इस बार भी पुरे टाल में सूखा पड़ा था । कुछ महीने पहले फसलों की कटाई हुई थी । इस आशा में की खेत में बचे फसलों के शेष और घास से भेड़ों की भूख मिट आएगी, वो इन दिनों टाल में ही चराई करवाने लाता था । पहले ऐसा नहीं था । पहले वो रेल की पटरियों से लगे अहाते में दूर तक भेड़ों को ले जाता था पर उसमे भेड़ों को खतरा था । कुछ दिन पहले ही उसके दो भेड़ ट्रेन से कट गए थे । माँ ने उसके बाद भेड़ों को टाल ले जाने का निर्देश दिया था । पर इधर भी खतरा कम नहीं था । आये दिन टाल में डाकू टैक्स की मांग करते थे । उसके अलावा अगर बड़े लोगो की खेत में भेड़ चली जाती तो मुवाजा देना होता था या उसके बदले मार खानी पड़ती थी । पर अब क्या करे भेड़ों को भूखा नहीं छोड़ना ,माँ कहती भेड़ें हमारे लिए लक्ष्मी है । पर क्या माँ ठीक कहती है उसे नहीं लगता था । माँ और मरे बाप ने जिंदगी भर भेड़ें चराई पर अब तक क्या बना लिया । बाबूजी जब जिन्दा थे तो वो उन्होंने पनवारी की एक दुकान खोली थी । पर बात नहीं जमी । जो बची खुची दुकान थी उसपर एक दिन कालाबाजारी का आरोप लगाकर पुलिस ने लूट लिया । बाबू और कालाबाजारी  असंभव। फिर भेड़ों का धंधा शुरू हुआ था । मुनाफा कम होने के बावजूद भेड़ों के व्यवसाय को न छोड़ा गया । उसने भी तो स्कूल में दाखिला लिया ही था पर काली अक्षर उसे भैंस लगती और स्लेट पर छपी अक्षरों से वो अपने भेड़ों की तुलना करने लग जाता । उसका ध्यान भटकता हुआ वर्तमान पर आया ।


माँ आज भी भूखी रह गयी थी । क्या खाया था उसने एक मुट्ठी चना और एक काधी रोटी । बूढी शरीर इतना खाकर रह पायेगी क्या । भेड़ों को संभालते हुए उसकी आँखें डबडबा गयी । नहीं नहीं , वो टाल के बीच में पड़ने वाले बगीचे से कुछ फल तोड़ लेगा और माँ के लिए सारा पोटली बचा लेगा । हालाँकि ऐसा करने में पकड़े जाने का डर थदोपहर अब सर पर थी । वो नदी तक पहुंच गया था । नदी भी इस गर्मी में एक रेक मात्र बन क़र रह गयी थी । भेड़ों को नदी के पास छोड़कर चुपके से बगीचे में घुस गया । एक पत्थर उठाया और जोर से आम के गुच्छे पर फेंका । भाग्य से एक साथ कई आम टपक पड़े । वो जल्दी से उन्हें उठाया और नदी की तरफ भाग लिया । नदी पर भेड़ों के साथ बैठकर उसने आम खाया । और वहीं सुखी घास पर लुढ़क गया । आँख खुली तो फिर प्रस्थान हअब वो काफी दूर निकल गया था । उसने सोचा अब लौटा जाये । उसने भेड़ों को मोड़ा । फिर पोटली टटोली । पर पोटली कहाँ है ? उसने इधर उधर देखा । यहीं तो बैठा था वो । कहीं नदी पर तो नहीं छोड़ दिया उसने ।। या भेड़ें खा गयी । वो वही बैठकर रोने लगा । रो धोकर जब वह उठा तो देखा कुछ लोग नदी की तरफ से आ रहे थे । पास आकर उनमे से एक ब' ऐ गरेड़ियाँ ! आज फिर तूने आम चुराया न 'अब फिर से रोने की बारी थी ।उसे लगा था जैसे कोई देख रहा होगा । पर उसने जान संभाली और बोला - नहीं तो । 

' अबे ! मुर्ख किसको बना रहा , नदी में आम की कई गुठलियां रास्ते में पड़ी देखी । एक तो चोरी भी और सबूत सामने छोड़कर झूठ बोलता है लड़के अल्हड थे । अँधेरे में तीर छोड़ रहे थे । गरेड़ियाँ नादान था । रोने लगा' बाबूजी गलती हो गयी । अब कभी इ काम न करेंगे '

लड़के हंसने लगे । सामने वाला बोला -' बेटा कुछ दान दक्षिणा दो नहीं तो हम बता देवेंगे बगीचे के मालिक को , फिर देख तू गाँव में कैसे रहता है । '

माँ का चेहरा झलक आया । अब इस उम्र में कहाँ जाएगी । उसके सर पर पसीने की बुँदे छलक गयी । उसे याद आया पिछले साल जब उसे बुखार लगा था तो माँ दूसरे गाँव गयी थी । आयी तो सर छिला हुआ था । पूछने पर माँ ने बताया कुछ नहीं बस वो गाँव के ढलान पर गिर गयी थी ।

वो बोला - बाबूजी गरीब आदमी है का दे सकते है '

' अरे ये भेंडे है न ! हम जा रहे है एक लेकर । किसी को नहीं बताना नहीं तो सोच ले '

वो ये बोलकर एक भेंड़ उठा क़र चले गए । वो रोते पीटते जब नदी के पास पहुंचा तो उसे पोटली की याद आ गयी । ढूंढा तो एक पत्थर से दबी मिली घर लौटते लौटते शाम हो गयी थी । माँ घर के बाहर ही बैठी थी ।

' आज भेड़ों को कुछ चारा मिला ? '' नहीं माँ ' उसने निराशा से जवाब दिया ।

' पर माँ देख न ! मैंने पोटली बचा ली । टाल में मैंने कुछ फल फूल खा लिया । तू खा ले न अब '

माँ ने पोटली देखी । जैसे सुबह पोटली भरी थी वैसे ही रखी थी ।गरेड़ियाँ को माँ के भूखा न रहने का संतोष था । पर कल माँ भेड़ें फिर से गिनेगी !  



Rate this content
Log in

More hindi story from Ajeet Kumar

Similar hindi story from Tragedy