jyoti pal

Abstract


4  

jyoti pal

Abstract


माँ

माँ

1 min 159 1 min 159

माँ ने जन्म दिया रोया जो

मैं सीने से लगा शांत कराया

पहली बार चलना

बोलना चलना सीखाया था


सर्वप्रथम कोमल हाथों का

स्पर्श उसने ही कराया था

जब सर्वप्रथम मां ने खाना

अपने हाथों से खिलाया था


रोटी के साथ गलती से मैंने

उनकी उंगलियों को खाया था

फिर भी उन्होंने मुझे कभी नहीं डाँटा था


पढ़ा लिखा कर एडमिशन का

इंटरव्यू पास करवाया था

मेरी माँ ने ही एडमिशन

कराया था प्यार से पढ़या था


बना कर खाना सुबह सुबह

समय पर स्कूल पहुंचाया था

प्रथम कक्षा में मैंने माँ के

लिए बड़ा कोहराम मचाया था


पापा की डाट पिटाई से बचाया था

मैं कर सकूं पढ़ाई इसलिए हमेशा

घर का सारा काम खुद ही निपटाया है


जब जब मैं होती हूँ उदास माँ ने

उदासी का कारण बड़े प्यार से पता लगाया है

ठुकराया हैं सबने बस

माँ ने जन्म से लेकर आज तक

मुझे सीने से लगाया है

खड़े हो मेरे साथ हमेशा मुझे

नया रास्ता, नया हौसला बढ़ाया है


सबसे अलग हो माँ तुम तुमने

मुझे ज्ञान दे हर मुश्किलों से निकलवाया हैं

मेरे गुस्से नखरों को उठा

मेरी उपलब्धियों का बखान हर किसी को बताया हैं

और लड़कियों के लिए भी तुमने

ज्ञान की ज्योति को फैलाया है।


Rate this content
Log in

More hindi story from jyoti pal

Similar hindi story from Abstract