Pawan Gupta

Horror Tragedy Thriller


4.8  

Pawan Gupta

Horror Tragedy Thriller


होर्रर फिल्म

होर्रर फिल्म

7 mins 24.7K 7 mins 24.7K

फिल्म एंड टेलीविजन इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (एफटीआईआई), पुणे से चार दोस्त नितिन सुरेश अभिमन्यु और सचिन सबने अपना अपना पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन डायरेक्शन का कोर्स करके निकले

वही कैंपस की कैंटीन में चारो ने बैठ कर फ्यूचर में क्या करना है बातें की !

सबने डिसाइड किया कि वो लोग हॉरर शार्ट फिल्मो से शुरुवात करेंगे क्युकी होर्रर कंटेंट देखने वाले बहुत होते है !

उन सब में ये बात फाइनल हो गई,अब उनको एक अच्छी जगह पर ऑफिस की जरुरत थी,उन सबने मिलकर पुणे में ही अपना एक छोटा सा स्टूडियो बनाया और काम पर लग गए !

शुरुआती समय तो बहुत ही बोरिंग था और समझ भी नहीं आ रहा था कि क्या करे, इनका बजट भी कम था,तो इन चारो ने अपने दोस्तों से हेल्प ली और अपने दोस्तों में से ही एक्टर्स चूज किये !

नैना पूजा राजेश और ये चार तो थे ही, इनको एक अच्छी स्क्रिप्ट भी मिल गई स्टोरी होर्रर थी, मूवी का नाम इन लोगो ने"9 से 12 का आखरी शो ".रखा !

मूवी बहुत अच्छी और डरावनी बनी,ये मूवी तीन दोस्तों पर आधारित थी, जो एक दैत्य के चुंगल में फस जाते है, और वो दैत्य उनको मारकर ही चैन लेता है !

रोंगटे खड़े कर देने वाली स्टोरी बनाई थी इन चार दोस्तों ने, मूवी पसंद भी खूब की गई !

अब इन चारो को दूसरी अच्छी होर्रर स्क्रिप्ट पर काम करना था !

इस बार फिर इन्हे एक अच्छी स्क्रिप्ट मिली कर्ज़दार ये एक होर्रर लव स्टोरी थी,इस कर्ज़दार मूवी से ये बहुत फेमस हुए,और लोगो ने इनकी मूवी को बहुत पसंद किया !

इसके बाद एक के बाद एक इन चारो ने कई मूवीज बनाई !

चुड़ैल, खौफनाक रात, बदला, माँ, मनहूस तालाब और भी कई मूवीज बनाई और सबके सब सफल रही !

अब इन चारो ने बड़ी मूवी बनाने का प्लान करने लगे अब ये शार्ट मूवी नहीं एक कमर्सिअल मूवी बनाने की सोचने लगे पर कम बजट की !

इनको एक अच्छी स्क्रिप्ट भी मिल गई,अब एक्टर्स के लिए इन्होने ऑडिशन रखा पर रियल होर्रर एक्टिंग किसी की भी नहीं थी सब ओवर एक्टिंग की दुकान खोल कर बैठ जाते थे !

चारो ऑडिशन लेकर पक गए थे इतने परेशां थे कि सबका सर दर्द से फट रहा था,तभी सचिन के फ़ोन पर एक नम्बर शो हुआ उस नम्बर के निचे कलकत्ता वेस्ट बंगाल लिखा आ रहा था !

सचिन ने फ़ोन उठा के बोला - हेलो कौन ...

दूसरी तरफ से एक लड़की की आवाज आई - आप..आपनी ...सचिन दादा बोल्छन की !

 सचिन ने कहा - मैं समझा नहीं आप कौन...

दूसरी तरफ से आवाज आई - ओ सॉरी मैं मेघना ...मैं जल्दी में बांग्ला बोलने लगी !

एक्चुअली मुझे तपन दा ने ये नम्बर दिया था,उन्होंने बताया की आपलोगो को एक चुड़ैल की एक्टिंग के लिए एक फीमेल एक्टर चाहिए, मुझे एक मौका दीजिये मैं आप लोगो को निराश नहीं करुँगी !

सचिन पहले से ही ऑडिशन से परेशां था,उसने कहा कौन तपन दा ..मैं किसी तपन दा को नहीं जानता हु,और ना ही अब हमें किसी का ऑडिशन लेना है,

 मेगना ने सिसकते हुए बोला - सर आपके स्क्रिप्ट राईटर जो कलकत्ता में रहते है वो तपन दा ... 

सर मुझे इस अपॉर्चुनिटी की जरुरत है सर मैंने बहुत दिनों से इस दिन का इंतज़ार किया है की मैं एक अच्छी एक्टर बन सकू, प्लीज सर ना मत बोलिये ...

तपन दा का नाम सुन कर सचिन ने कहा एक मिनट रुको मैं अपने दोस्तों से बात कर लेता हु, सचिन ने ये बात सबको बताई सब एक ऑडिशन लेने के लिए राजी हो गए !

अब तक मेघना फ़ोन पर ही सचिन के हां का वेट कर रही थी 

सचिन ने कहा ठीक है आ जाओ हम तुम्हारा ऑडिशन ले लेते है !

तुम कब तक पुणे आ जाओगी,

मेघना बोली कल मैं पहुंच जाउंगी, सचिन ने कहा की मैं अपने स्टूडियो का एड्रेस भेज देता हु कल याद से आ जाना !

पक्का सर मैं कल आपसे मिलती हु थैंक यू सो मच सर ...

कहकर मेघना ने फ़ोन रख दिया !

सचिन ने अपने स्टूडियो का एड्रेस मेघना को सेंड करके सब अपने अपने घर चले गए !

अगली सुबह जब वो अपने स्टूडियो पहुंचे तो एक लड़की पहले से ही वहा मौजूद किसी का बेसब्री से इन्तजार कर रही थी 

वो लड़की बहुत खूबसूरत थी, बड़ी बड़ी आँखे प्यारी मुस्कान बाल लम्बे कमर तक थी,

बंगाल की पूरी खूबसूरती मानो उसी में समां गई हो, 

सचिन को देखते ही वो लड़की खड़ी होकर सचिन के पास गई और कहा हेलो सर मैं मेघना ...

सचिन अपनी चेयर पर बैठा हुआ अपना सर ऊपर उठा कर मेघना के चेहरे की तरफ नजर नज़रे दौड़ाई !

अब सचिन की नजरे मेघना के चेहरे पर टीकी रह गई,तभी मेघना ने सचिन को फिर से आवाज लगाई... सर क्या हुआ कहा खो गए ! 

सचिन अचानक से घबराते हुए जैसे की उसकी चोरी पकड़ी गई हो ...न...न...नहीं ..नहीं 

तुम कौन हो मेघना ने कहा - सर मैं मेघना अभी तो बताई कल आपसे मेरी बात हुई थी, तपन दा ने भेजा है !

सचिन ओ... मेघना !शायद सचिन पहली नजर में ही अपना दिल खो बैठा था वो सफ़ेद सूट हलके मेकअप में कुछ यु लग रही थी,मानो अभी अभी तेज बारिश रुकी हो और हलकी धुप निकल आई हो जो धुप शरीर को भीनी भीनी गर्मी से शरीर में ताजगी भर रही हो,और बस इंद्रधनुष के निकलने का समय आ गया हो !

वो उसके चेहरे पर आती हुई लटे यू लग रही थी की जैसे की घने काले बादलो से चाँद सब देख कर मुश्कुरा रहा हो,

सचिन ने मेघना को अपने सारे दोस्तों से मिलवाया, फिर मेघना का ऑडिशन हुआ, मेघना की एक्टिंग पूरी तरह साफ़ नहीं थी, पर मेघना की जिद और सचिन के सपोर्ट के कारण उसे फिल्म में रोले मिल गया !

 शूटिंग चालु हो गया, मेघना ने अच्छा काम किया,. " वो कौन थी " मूवी 6 महीने में बन कर तैयार हो गई,. इन 6 महीनो में सचिन और मेघना भी करीब आ गए थे,

सब फाइनल होने के बाद स्पेशल स्क्रीनिंग की डेट भी फिक्स हो गई सभी एक्टर एक्ट्रेस डायरेक्टर स्क्रिप्ट राईटर मिडिया और सभी जो भी जरुरी थे सबको बुलाया गया !

सबने फिल्म की खूब तारीफ की और एक्ट्रेस मेघना की भी ...

सब मेघना से मिलना चाहते थे क्युकी वो उभरती हुई कलाकार थी,पर आज इतने इम्पोर्टेन्ट इवेंट में मेघना गायब थी !

फ़ोन ऑफ था, सब उसके लिए परेशान थे तभी स्क्रिप्ट राईटर तपन दा से इन चारो ने पूछा की मेघना से बात हुई है आपकी ...

तपन दा ने कहा मेघना मुझे क्यों कॉल करेगी मैं नहीं जानता,

सचिन चौकते हुए अरे तपन दा आपने ही तो मेरा नम्बर उसको दिया था और मेरे पास भेजा था !

तपन दा साफ़ मुकर गए और गुस्सा होने लगे की मैंने किसी को नहीं भेजा कहकर दूसरी तरफ चले गए, अचानक पांच मिनट में फिर वो हम चार दोस्तों के पास आये और कहा ....

सचिन ..सचिन मुझे याद आ गया आज से तीन महीने पहले ये लड़की मेरे पास आई थी रो रही थी वो अपने घरवालों से लड़ाई करके घर छोड़ के एक्ट्रेस बनने के लिए भाग आई थी,वो मुझसे काम मांग रही थी  रो रो कर बोल रही थी की कोई भी काम दिलवा दो आप तो अच्छे राईटर हो अच्छी जान पहचान है आपकी...

पहले तो मना किया मैंने फिर उसे परेशान देखकर तुम्हारा नम्बर उसे दे दिया, वो मुझे कॉल भी करती थी,

पर कुछ दिन उसका कॉल नहीं आया बस पुलिस आई उन लोगो ने बताया था की ये लड़की रोड एक्सीडेंट में मर गई थी, इसके फ़ोन में मेरा आखरी नम्बर था इसलिए पुलिस ने सोचा की मैं 

मैं इस लड़की का जानकर हूँगा इसलिए पुलिस मेरे पास आई और फिर पूछ ताछ करके चली गई !

ये बात मुझे सच में याद नहीं था अभी याद आया तो बता दिया, उन चारो को इसपर विस्वास नहीं हुआ,अगले दिन वो police स्ततिओन गए वहा पुलिस वालो ने भी यही बात कही की वो लड़की मेघना ही थी,उन्होंने बाकायदा ऍफ़ आई आर की कॉपी भी दिखाई जिसमे मेघना की फोटो थी !

अब सब डर गए थे एक लड़की को एक्टिंग का इतना सौक था की मरकर भी उसने अपने सपने को पूरा किया ....

सब इस बात से दुखी थे सचिन तो तबसे ज्यादा दुखी था पर इसके साथ साथ इन चारो को एक फ्री में नयी स्क्रिप्ट मिल गई थी जो बहुत ही होर्रर थी ....

क्या आपको पता चला उन चारो की नयी स्क्रिप्ट क्या थी !


Rate this content
Log in

More hindi story from Pawan Gupta

Similar hindi story from Horror