Travel the path from illness to wellness with Awareness Journey. Grab your copy now!
Travel the path from illness to wellness with Awareness Journey. Grab your copy now!

Piyush Goel

Abstract

3.6  

Piyush Goel

Abstract

हिंदी की दुर्गति

हिंदी की दुर्गति

3 mins
265


हिंदी भारत की राष्ट्रभाषा है । जब भी कोई शिशु पहला अक्षर बोलता है तो वह भी हिंदी में ही होता है, जब शिशु कलम चलाता है तब वह भी हिंदी में ही होता है । विज्ञान ने साबित किया है कि जो बच्चे आठ वर्ष तक अपनी मात्र भाषा को अच्छे से सीखते हैं। वो आगे भी अच्छा प्रदर्शन देते है । आज हिंदी की दुर्गति हो रही है । हिंदी को अब अनपढों वाली भाषा समझा जाने लगा है । आज यह एकांकी मैं हिंदी की दुर्गति दिखाने के लिए लिख रहा हूँ।

सूचना : मेरा उद्देश्य किसी भी भाषा का अपमान करना नही है । 

पात्र परिचय

सोनालिका : एक 26 वर्षीय लड़की

रजत : सोनालिका के पिता

सुषमा : सोनालिका की माता 

अनिता : साक्षात्कारकर्ता

मोहिनी : साक्षात्कारकर्ता

सुमित: साक्षात्कारकर्ता

अभिषेक : साक्षात्कारदाता 

सोनालिका एक 26 वर्षीय लड़की है जो कि अध्यापिका बनना चाहती है और आज उसका साक्षात्कार है ओर वह अब अपने घर मे चर्चा कर रही है 

सोनालिका : मुझे विश्वास है कि मेरा चुनाव अवश्य होगा ।

रजत : हा क्यो नही ?

सुषमा : हा वो तो होगा ही मेरी बेटी है ।

सोनालिका : पर एक चिंता है ।

सुषमा : चिंता कैसी ? 

सोनालिका : मेरी अंग्रेज़ी कमज़ोर है ।

सुषमा : तो क्या हुआ बेटी ? 

सोनालिका : मा ! आज कल हर बात अंग्रेज़ी में होती है ।

सुषमा : तो क्या हुआ ? तू जा तो सही ।

रजत : हा बेटी ! तुझे जाना चाहिए ।

सोनालिका : हा मैं जाती हु । 

तो अब सोनालिका साक्षात्कार देना जाती है और वहाँपर 

मोहिनी : व्हाट इज योर नेम?

सोनालिका को समझ नही आया और उसने कहा 

सोनालिका : जी कृपा राष्ट्रभाषा हिन्दी मे बात करे ।

अनिता : मतलब आपको अंग्रेज़ी नही आती ।

सोनालिका : जी नही ।

सुमित : थोड़ी बहुत तो आती होगी । 

सोनालिका : जी नही । 

सुमित : बिल्कुल भी नही 

अनिता : तो आप टीचर कैसे बनेंगी ? 

सुमित : अनिता ! हिंदी में बात करो ।

अनिता : हा हा ! तो क्या नाम है आपका ? 

सोनालिका : जी मेरा नाम सोनालिका है । 

सुमित : ओर आपको अंग्रेज़ी नही आती ? 

सोनालिका : जी नही । 

सुमित : फिर आप अध्यापिका कैसे बनेंगी ? 

सोनालिका : जी मतलब ?

अनिता : मतलब आपको अंग्रेज़ी आनी चाहिए । 

सोनालिका : वो क्यो ? 

अनिता : क्योकि आज कल हिंदी को कोई भी पूछता नही है । 

सोनालिका : पर मैं हिंदी की अध्यापिका बनना चाहती हु ।

अनिता : देखिए यह बात नही है ।

सोनालिका : फिर क्या बात है ? 

सुमित : देखिए ! हमारा स्कूल प्रतिष्ठित है और हम किसी को भी ऐसे नही रख सकते ।

अनिता : जी हाँ ! आप अपनी नोकरी ढूंढ लीजिये ।

सोनालिका : आप मेरी बात तो समझिए । 

अनिता : जी हम कुछ समझना नही चाहते ।

सोनालिका : आप मुझे मौका तो दीजिये ।

अनिता : मोके की कोई बात नही है । 

सोनालिका : फिर आप मुझे नोकरी क्यो नही दे रहे ? 

सुमित : आपको अंग्रेज़ी सीखनी होगी । 

सोनालिका : पर मैं हिंदी अच्छी पढ़ाती हु । 

सुमित : आज के समय मे हिंदी का कोई महत्व नही है । 

अनिता : आप जा सकती है ।

अब सोनालिका चली जाती है ओर् तब साक्षात्कारकर्ता बात करते है 

अनिता : कैसे लोग थे ये ? 

सुमित : हां सही कहा । 

मोहिनी : हां हिंदी जैसी बेकार भाषा मे बात करते हैं।

सुमित : हां हिंदी तो गवारों वाली भाषा है ।

मोहिनी : ऐसे अनपढों को नोकरी देदी तो तो स्कूल का नाम ही डूबा देंगे ।

सुमित : अब दूसरे व्यक्ति को बुलाते है । 

तब दूसरे साक्षात्कारदाता अभिषेक आते हैं


Rate this content
Log in

More hindi story from Piyush Goel

Similar hindi story from Abstract