Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!
Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!

Sujata Kale

Tragedy

4.4  

Sujata Kale

Tragedy

तुम न आना भूल कर कभी

तुम न आना भूल कर कभी

1 min
219



वह मंज़र तुमने न देखा

हम खुद से जुदा होते हुए,

आँखों से सैलाब बहा

तेरे दर से निकलते हुए ।


हम इतने मायूस हुए कि

अपना शहर ही छोड़ दिया

हमने अपने आप को भूलाकर

दूसरा जहान बसा लिया।


अब हमारी गलियों में

तुम न आना भूल कर कभी

हमने अपनी गलतियों को

कब का दफ़न कर दिया।



Rate this content
Log in

Similar hindi poem from Tragedy