Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

Dr.Purnima Rai

Tragedy Inspirational


2  

Dr.Purnima Rai

Tragedy Inspirational


त्रासदी

त्रासदी

1 min 94 1 min 94


मां का रिश्ता है, सब रिश्तों से ऊपर

कहते हैं सभी, समझता है कोई-कोई

नारी (औरत) है सबला, गूंज है गली गली

सुनते हैं सभी, मानता है कोई-कोई 

पुत्री है पुत्र-तुल्य, नारा है आज का

बोलते हैं सभी, अपनाता है कोई-कोई 

भ्रूण हत्या है पाप, समय की है मांग

 विचारते हैं सभी, रोकता है कोई-कोई



Rate this content
Log in

More hindi poem from Dr.Purnima Rai

Similar hindi poem from Tragedy