Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

स्याही

स्याही

1 min 326 1 min 326

स्याही से किये हस्ताक्षरों से

तुम क्या ख़रीद लोगे इस

दुनिया से


अमर होते हैं वो हस्ताक्षर,

जो शहीद करते हैं धरा पर

अपने रक्त से !


Rate this content
Log in

More hindi poem from S Ram Verma

Similar hindi poem from Inspirational