Win cash rewards worth Rs.45,000. Participate in "A Writing Contest with a TWIST".
Win cash rewards worth Rs.45,000. Participate in "A Writing Contest with a TWIST".

PANKAJ GUPTA

Action Crime Inspirational


4.5  

PANKAJ GUPTA

Action Crime Inspirational


शुद्ध से अशुद्ध

शुद्ध से अशुद्ध

1 min 314 1 min 314

लौट जाना चाहती हूं

उस आदम के पास

जो पत्थरों को आपस में रगड़ कर 

आग पैदा कर रहा था


ये आदम से आदमी बनने की

खौफनाक प्रक्रिया का पहला पड़ाव था

आदमी बने लेकिन आदमियत खोती गई

जो 'लाल' जीवन देता है


उससे नफ़रत होती गई

उन दिनों में मैं अपने ही घर में

मेहमान बन कर रह गई

नसीहतें तमाम दी जाती है


संभल कर रहना, कहीं दाग न लग जाय

भाई से दूर रहना, उसे ख़बर न लग जाय

कितना भी हो दर्द, कर लेना बर्दाश्त

कराहकर घर में न करना शांति का ह्रास

किचन में जाकर क्लेश न करना


पूजा घर जाकर अशुद्ध न करना

हा वो अलग बात है हमलोग

माँ कामाख्या की पूजा करने जाते है

हा वो अलग बात है, जरूरी है यह 


लाल रंग एक नया जीवन देने के लिए

हा वो अलग बात है कि मैं

माहवारी बाद शुद्ध हो जाऊंगी

लेकिन बस अब बहुत हुआ


क्या केवल लज्जा हया 

मर्यादा ही नारी के श्रृंगार है ?

हमें हर महीने शुद्ध और अशुद्ध नहीं होना

इसीलिए लौट जाना चाहतीं हूँ

उस आदम के पास

जो शुद्ध अशुद्ध में फर्क नहीं जानता था।


Rate this content
Log in

More hindi poem from PANKAJ GUPTA

Similar hindi poem from Action