Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

Sumita Sharma

Inspirational Action

4.0  

Sumita Sharma

Inspirational Action

शहीद की पत्नी का सावन

शहीद की पत्नी का सावन

1 min
406


रास्ते में विधवा वीर वधू को देख 

नववधू ठिठक गयी

यह विधवा मेरे रस्ते में

क्यों आकर ऐसे अटक गई।


तुम यहाँ कहाँ पर भटक चली

क्यूँ कर बतलाओ ओ भोली

यह नववधुओं की तीज सखी

यह नहीं अभागन की टोली।

 

उसकी घबराहट देख वो बोली 

बहन न ऐसे घबराओ

मुझको अपशकुनी न समझो 

मत अपने मन को समझाओ।


मैं सहयोगिनी उस सैनिक की

जो मातृभूमि को चूम गया

तुम सबका सावन बना रहे

वो मेरा सावन भूल गया।


मेरे जूड़े का वो गुलाब 

अब फसल खेत की कहलाता

मेरे सुहाग की कुर्बानी से 

यहाँ तिरंगा लहराता।


तुम सबकी राखी और सुहाग

वो मंगल सूत्र से जोड़ गया।

तुम सबकी चूड़ी खनकाने को

मेरी चूड़ी तोड़ गया।


मेरी चुनरी के लाल रँग को वो

कुछ ऐसे चुरा गया।

उसकी सारी लालामी सब

तुम्हरी चूनर में सजा गया।


उनकी यादों को मंदिर में

आज सजाने आयी हूँ

मेरा बेटा भी सैनिक हो 

अम्बे को मनाने आयी हूँ।


आँचल में छुपा कर घर रखा

तो वीर कहाँ से आयेंगे

जब मुश्किल से टकराएंगे

तब अभिनन्दन बन पाएंगे।


Rate this content
Log in

Similar hindi poem from Inspirational