Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

Indu Tiwari

Romance


4  

Indu Tiwari

Romance


सावन

सावन

1 min 13 1 min 13

सावन आया पर

साजन नहीं आये


मन की अगन

बुझे न बुझाए


सावन बरसे पर

अश्क न थम पाए


पी की याद

भूले न भुलाये


सावन झूमे पर

हम न मुस्काये


बिरहा की घड़ी

बीते न बिताए


सावन आया

पर साजन नहीं आये।


Rate this content
Log in

More hindi poem from Indu Tiwari

Similar hindi poem from Romance