Participate in the 3rd Season of STORYMIRROR SCHOOLS WRITING COMPETITION - the BIGGEST Writing Competition in India for School Students & Teachers and win a 2N/3D holiday trip from Club Mahindra
Participate in the 3rd Season of STORYMIRROR SCHOOLS WRITING COMPETITION - the BIGGEST Writing Competition in India for School Students & Teachers and win a 2N/3D holiday trip from Club Mahindra

Sumit Mandhana

Tragedy


4.0  

Sumit Mandhana

Tragedy


रंगमंच "

रंगमंच "

1 min 241 1 min 241

रंगमंच भी वही है , कलाकार भी वही है

अफसोस कि अब खाली कुर्सियां रह गई हैं !

लोग कहते हैं कलाकार बूढ़ा हो गया है,

लेकिन उसकी कला में कहां कमी रह गई है !

कल तक अभिनय से लोगों को था हंसाता,

दर्शकों की तालियाँ अब कहाँ रह गई हैं । 

आज उसे पूछने भीड़ में से कोई भी नहीं है.,

जबकी रंगमंच भी वही है कलाकार भी वही !


Rate this content
Log in

More hindi poem from Sumit Mandhana

Similar hindi poem from Tragedy