Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

नींद कहाँ आती है

नींद कहाँ आती है

1 min 146 1 min 146

उल्फतों में कहा यार

सपने तो उलझनों में आती है।


लबों पे झूठी हँसी

रातों को तकिये भिगोती है।


आपके साथ बड़ी

गहरी दोस्ती होगी ना ?


आपके साथ आकर

आपके साथ चली जाती है।


पूरी रात, खाली आंख लिए बैठे थे

पर ये कम्बख्त नींद कहाँ आती है !


Rate this content
Log in

More hindi poem from Paramita Mishra

Similar hindi poem from Romance