Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

SARVESH KUMAR MARUT

Drama Action Inspirational


4  

SARVESH KUMAR MARUT

Drama Action Inspirational


माँ

माँ

1 min 21 1 min 21

मैं भूल गया अपने ग़म को,

जब माँ ने मुझे पुकारा था।


मैं जीत गया सारी दुनिया,

मैंने जब-जब शीश नवाज़ा था।


मेरी माँ की सेवा में भले ही,

चाहें ज़िस्म लहू ही बिक जाए।


सज़दे करूँ मैं सौ-सौ बारों,

मेरा इसके बिना संसार कहाँ ?


Rate this content
Log in

More hindi poem from SARVESH KUMAR MARUT

Similar hindi poem from Drama