Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!
Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!

कल्पना रामानी

Classics

5.0  

कल्पना रामानी

Classics

कितना हसीन है

कितना हसीन है

1 min
370


बरसात का ये मौसम, कितना हसीन है !

धरती गगन का संगम, कितना हसीन है !


जाती नज़र जहाँ तक, बौछार की बहार

बूँदों का नृत्य छम-छम, कितना हसीन है !


बच्चों के हाथ में हैं, कागज़ की किश्तियाँ

फिर भीगने का ये क्रम, कितना हसीन है !


विहगों की रागिनी है, कोयल की कूक भी

उपवन का रूप अनुपम, कितना हसीन है !


झूलों पे पींग भरतीं, इठलातीं तरुणियाँ

सावन सुनाता सरगम, कितना हसीन है !


मित्रों का साथ हो तो, आनंद दो गुना

यह गुनगुनाता आलम, कितना हसीन है !


हर मन का मैल मेटे, सुखदाई मानसून

हर मन का नेक हमदम, कितना हसीन है !


Rate this content
Log in