Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

Neena Ghai

Romance

4.9  

Neena Ghai

Romance

इक दूजे बिन अधूरे

इक दूजे बिन अधूरे

1 min
302


हम दो प्रेमी इक

दूजे बिन अधूरे हैं

मैं तू हूँ और तू मैं हूँ

न मैं कमतर

न तू बेहतर l


तू मेरा चाँद,

मैं तेरी चाँदनी

तू मुझ बिन अधूरा ,

मैं तुझ बिन अधूरी

न मैं कमतर

न तू बेहतर l


मैं धरा हूँ,

तू है आकाश

मैं धैर्य की हूँ

मिसाल,

तू नीरव भी है,

और है आग

न मैं कमतर

न तू बेहतरl


कभी तू मेरा रक्षक,

कभी मैं तेरी ढाल

तू मेरी चाहत है,

मैं तेरी कशिश हूँ

न मैं कमतर

न तू बेहतरl


तू मेरा हमसफर है,

मैं तेरा साया हूँ

न मैं कमतर

न तू बेहतर l



Rate this content
Log in