End of Summer Sale for children. Apply code SUMM100 at checkout!
End of Summer Sale for children. Apply code SUMM100 at checkout!

Suresh Koundal

Tragedy


4.7  

Suresh Koundal

Tragedy


दुल्हन के सिसकते अरमान

दुल्हन के सिसकते अरमान

2 mins 252 2 mins 252

कई सपने कई अरमान, दिल में लिए,

बन दुल्हन डोली में बैठी, कई यादें लिए ।

चली घर पराये , नई दुनिया सजाने ।

छोड़ बाबुल का घर ,पिया घर बसाने ।।

दहलीज़ से बाबुल की , वो ज्यों आगे निकली ।

तड़पी वो ऐसे ,कि जल बिन हो मछली ।।

छूटा घर प्यारा, जहां बचपन गुज़ारा ।

वो माँ का आँचल, पिता का सहारा ।।

रखा ज्यों कदम, ससुराल का था वो आंगन ।

नई उम्मीदों ,सपनों से , खिल उठा उसका मन ।।

नए रिश्तों में प्यार, तलाशें उसकी आँखें ।

पर उनकी आँखें , उसमें कमियां तलाशें ।।

वो समझें सिर्फ उसको ,इक चीज़ पराई ।

कितना सोना लाई, या कोई कार लाई ।।

लोभी निगाहें ,ज़ुबां पर रुसवाई ।

किसी ने न पूछा दिल में ,कितना प्यार लाई ।।

लालच के पुजारी, हर रोज़ करोदें ।

कभी ताना ,गाली , कभी पैरों से रौंदें ।।

जब सब्र टूटा , उसने आवाज़ उठाई ।

बाबुल को बताया ,दी मदद की दुहाई ।

कि बोले वो तू है, अब अमानत पराई ।।

हर आस टूटी,मन में खरोंचें सी आई ।

लौटी ससुराल वापिस , फिर मुड़ कर न आयी ।।

हाँ फिर एक दिन खबर, उसके जलने की आई ।

समझलो खुद ही कि जली थी, या थी वो जलाई ।।

रुधें मन से पिता ने, उसकी अर्थी सजाई ।

लिटाते चिता पर , इक बात मन में आई ।

कि क्या सच में बेटी थी, इतनी पराई ?

कि क्या सच में बेटी थी , इतनी पराई ?


Rate this content
Log in

More hindi poem from Suresh Koundal

Similar hindi poem from Tragedy