Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

Kalpana Misra

Romance

4.3  

Kalpana Misra

Romance

दिल की तमन्ना

दिल की तमन्ना

1 min
442


चलो आज दिल की तमन्ना मिटा लें,

मचलती हुई मस्त लहरों पे खेलें।


ले हाथों मे हाथ चले हम वहाँ तक,

सागर में उठती हैं लहरें जहां तक।

चाहता है गगन भी लहरों को चूमें,

ऊंची उठती लहर मिलना चाहे गगन से।


चलो आज दिल की तमन्ना मिटा लें,

मचलती हुई मस्त लहरों पे खेलें।


हो रहा वो मिलन देखो दरिया गगन का,

जहां झुक गया आसमां भी क्षितिज पे।

चलो आज हम भी वहाँ तक चलें,

जहां मिल रहा है दरिया गगन से।


चलो आज दिल की तमन्ना मिटा लें,

मचलती हुई मस्त लहरों पे खेलें।


गगन से उतर आया है चाँद नीचे,

चांदी सी चमकती लहर चाँदनी से।

चलो आज दरिया किनारे पे बैठें,

चाँदनी में नहायी इन लहरों को देखें।


चलो आज दिल की तमन्ना मिटा लें,

मचलती हुई मस्त लहरों पे खेलें।


पानी सागर का खारा हुआ इतना कैसे,

गोरी के आँसू इसमें समाये हो जैसे।

चलो आज दरिया को मीठा बना दें,

अपने प्यार की इसमें मिश्री मिला दें।


चलो आज दिल की तमन्ना मिटा लें,

मचलती हुई मस्त लहरों पे खेलें।


Rate this content
Log in