Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!
Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!

Sheetal Dange

Abstract

4.8  

Sheetal Dange

Abstract

धरोहर

धरोहर

1 min
197


कितनी भी तस्वीरें ले लो,

छाप बस दिलों पर छूटेगी।

मूरत छोटी हो , या बड़ी

वक्त आने पर टूटेगी ॥


तेरी आँख की पुतली ने,

जो पल पकड़े हैं मन पर;

जीवन का बस वही है हासिल

वही है असल धरोहर ॥


शुक्राना उस मालिक का ,

जिसमें रंग हज़ार दिए।

आवन-जावन रूप बनाए,

मनस सभी के तार दिए ॥


Rate this content
Log in

Similar hindi poem from Abstract