Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

Anjali Kemla

Horror

4.4  

Anjali Kemla

Horror

डर भरा अधूरा सपना

डर भरा अधूरा सपना

2 mins
607


समय 2 बजे

घर अपना नहीं किराए का कमरा 

घरवाले नहीं रूममेट 

और मेरी उम्र मात्र 20 साल

 

थोड़ी सी बड़ी में उम्र से थी

पर हरकतें नादान

शांत ज़ुबान

और उस रात के सपने

का शमशान ।


उस रात मेरी नींद बहुत गहरी थी 

वो रात मुझ से कुछ कह रही थी 

उस रात बात उसकी टाल कर

मैने नींद को पकड़ लिया 

और थोड़ी ही देर में एक सपने ने

मुझे खुद में जकड़ लिया ।


रात ढाई बजे के करीब कुछ आवाज़

मुझे सुनाई दी

और नींद ही नींद में अजीब सी जगह

मुझे दिखाई दी 

कुछ था नहीं वहां बस राख मिट्टी और

बहुत सारी लकड़ी थी 

मैं पहली बार इस तरह किसी सपने 

जकड़ी थी ।

 

मैं थम गई उस जगह पर और वो

घड़ी भी वहां रुक गई 

मैं कुछ समझ पाने की कोशिश ही

कर रही थी कि मुझे कुछ लोगो की

आवाज़ आने लगी जैसे कोई भीड़

चिल्ला रही हो और सिर्फ एक ही 

लाइन सुनाई देने लगी

राम नाम सत्य है


और धीरे धीरे से वो आवाज़ मेरे

पास आने लगी 

 कुछ देर रुकने के बाद कुछ

लोगो की भीड़ 

और उनके कंधों पर एक जनाज़ा

देख कर रूह कपकपाने लगी

जैसे मेरी जान मेरे शरीर से अलग

छूट गई 

और उस जनाजे को देख मेरी आँखों

से आँसू टपके और में टूट गई। 


अचानक से कमरे में रखे मटके

का गिलास गिरा

नींद टूटी आँख खुली और मेरी

सांसे ऊपर नीचे होने लगी जैसे 

मैं कहीं से भाग कर आई हूं


उस पूरी रात मुझे नींद नहीं आई

और डर ने मुझ में जगह बनाई 

और उस सपने में वो जनाजा

किसका था

मैं कभी समझ नहीं पाई ...



Rate this content
Log in

Similar hindi poem from Horror