Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!
Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!

Writer Ajooba:

Children

3.4  

Writer Ajooba:

Children

बसंत आ रहा है,

बसंत आ रहा है,

1 min
52


ओ! मां,

पत्ते जो पहले झड़ रहे थे

अब क्यों उग रहे है?

सर्दी जो पहले बढ़ रही थी

अब क्यों घट रही है?

वे सूखे-सूखे बबूल

जो नर कंकाल-से लगते थे,

आज किसका स्वागत कर रहे है?


बेटा! वह आ रहा है

कौन?

पीले परिधान पहनकर प्यारा बसंत आ रहा है।

उसकी स्वर्णमय पीली आभा से,

धन-धान्य पूरित हो रहा

उसकी विलक्षण पीली काया से

वसुंधरा शोभित हो रही ,

उसकी छोटी सी श्रेष्ठ माया से

हर कोई लोभित हो रहा , हर कोई मोहित हो रहा।



Rate this content
Log in

Similar hindi poem from Children