Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

Sundar lal Dadsena madhur

Abstract Tragedy Inspirational

3.6  

Sundar lal Dadsena madhur

Abstract Tragedy Inspirational

अयोध्या और राममंदिर

अयोध्या और राममंदिर

1 min
42


भगवा रंग में रंगने को लगे सदियों साल है

सालों साल तंबू में काटे भगवन इसका मलाल है

आज रामलला के मंदिर निर्माण की शुभ घड़ी आई है

अयोध्या संग पूरी दुनिया रंगी भगवा रंग लाल है1


राम नाम के जाप से पूरन होंगे सब काम

अयोध्या मंदिर में विराजेंगे मेरे प्रभु श्रीराम

मन मंदिर खिल उठी ये शुभ घड़ी आई है

दीपोत्सव सी सजी है सच में अयोध्या धाम2


मंत्रों से गुंजायमान होगी पूरी सृष्टि चहुँओर

रामलला निज मंदिर विराजेंगे मची हुई है शोर

दिल में गर राम बसा है खुशी से चेहरे खिले

नवयुग का आरंभ होगा नवविहान व भोर3


हर हिन्दू की तपस्या का फल फलीभूत होने वाली है

सरयू के पावन जल से तन का तपन मिटने वाली है

लगेगी नींव भक्ति की निज निवास राम विराजेंगे

दीये कर लो जरा रोशन, लगे आज ही दीवाली है4


5 अगस्त 2020 स्वर्ण अक्षरों में लिखा जाएगा

500 वर्षों की तपस्या, संघर्ष का फल मिल जाएगा

5 दीये जला लेना, भूमिपूजन का प्रकाश फैला देना

अयोध्या में राम मंदिर बनेगा, हिंदुस्तान सनातनी कहलाएगा।


Rate this content
Log in

Similar hindi poem from Abstract