Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
मैं वेदना की गहराई लिखता हूं
मैं वेदना की गहराई लिखता हूं
★★★★★

© Abhishek shukla

Drama Inspirational

2 Minutes   6.7K    14


Content Ranking

शब्द मेरे हम इंसानों सा रोते हैं

मैं वेदना की गहराई लिखता हूं ,

उजाले में हर कोई साथ चलता है

अंधेरों में भी मैं परछाई लिखता हूं ,


अपने दुःख में मैं चुप हो जाता हूं

दूसरों के सुख में शहनाई लिखता हूं ,

मैं चुप होके भी कुछ कह जाता हूं

ऐसे एहसासो की करिश्माई लिखता हूं ,


जो न हो सबके हित और पक्ष में

ऐसी वृद्धि को मैं महंगाई लिखता हूं ,

उजालों तक ही हों जो सीमित कदम

इसको ही स्वार्थ पूर्ण हिताई लिखता हूं,


जहां पवित्र हो जाये आत्मा मिले शांति

उनको ही मैं सावन रमजायी लिखता हूं ,

जहां न हो भेदभाव न कोई ऊंच नीच

ऐसे व्यवहार को प्रभुताई लिखता हूं ,


दिल का सरल होना भी बेहद जरूरी है

सबके हृदयं में एक नरमाई लिखता हूं ,

बात जहां हो सम्मान के रक्षा की

उस स्थिति में मैं कड़ाई लिखता हूं ,


कठिन परिस्थितियों में सरल व्यवहार

ऐसे मनः दशा को चतुराई लिखता हूं ,

मैं इंसानों को भी पर दे दूं परिंदों सा

फ़िर आकाश कोअनंत ऊंचाई लिखता हूं ,


जहां से करें मानवता का अमृतपान हम

गुरुबान क़ुरान गीता व चौपाई लिखता हूं ,

मानव सेवा ही मेरा धर्म रहा सदा से ही

मैं तो रब ख़ुदा ईश रघुराई लिखता हूं


अच्छों के साथ अच्छा बुरों के साथ भी

देखा हरदम अच्छा है न बुराई लिखता हूं ,

जिस मचान पर ठिठुर गयी ख़ुद सर्दी भी

उस ठिठुरन को ही मैं रज़ाई लिखता हूं ,


जब स्वार्थ ही नींव हो जाये रिश्तों की

फ़िर इनसे मैं बेहतर तन्हाई लिखता हूं ,

जब भी निराश हो झगझोर दे मन को

एहसासों की ऐसे में गरमाई लिखता हूं ,


इस विस्तृत भू भाग की संरचना है अद्भुत

पहाड़ों की ऊंचाई कहीं राई लिखता हूं ,

एक ऐसा स्वरूप जिसमे है निःस्वार्थ प्रेम

मां माता अम्मी कहीं माई लिखता हूं


बेनक़ाब चेहरों पर रंग नहीं चढ़ते हैं

सादगी को भी अलग रंगाई लिखता हूं ,

अपने दर्द में मैं चुप चाप रो लेता हूं

फ़िर दूसरों के दर्द की दवाई लिखता हूं ,


जहां बांध दे दीवारे चलने से हमें

वहां कुछ मार्ग हवाई लिखता हूं ,

तूफ़ानों की भीअपनी एक कहानी होती है

हवा के रुख़ को पुरवाई लिखता हूं ,


कुछ विरोधाभास मन में जो छिपे हैं

मैं ऐसे विचारों की सफ़ाई लिखता हूं ,

खेल कभी कुछ एहसासों को तोड़ते है

मैं कुछ खेल तमाशाई लिखता हूं ,


जहां टूट जाये उम्मीद और हार जाएं हम

वहां मैं विश्वासों की भराई लिखता हूं ,

गिर जाने पर भी पेड़ों में शाख निकलती है

इसको ही क़ुदरत कीरहनुमाई लिखता हूं ,


इस प्रकृति का रहस्य अनन्त है यहाँ

कहीं नदियां पहाड़ कहीं खाई लिखता हूं ,

गलतियों को मैं अपनी कभी नहीं छुपाता

कभी हिसाब तो कभी भरपाई लिखता हूं...।

Motivation Inspiration Life lessons Writing

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..