Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
ब्रेक-अप के बाद पेड़ लगाओ
ब्रेक-अप के बाद पेड़ लगाओ
★★★★★

© Jiya Prasad

Romance

2 Minutes   1.4K    9


Content Ranking

ज़िंदगी अपनी फिक्स थी

थोड़ी सी डिब्बे में 

तो कुछ बक्से में 

 रंग भी ज़रूरी ज़िंदगी के संस्कार हैं सो 

ज़रा सा हल्दी के डिब्बे में भी रख छोड़े थे

 

 

अपने दिन को पकाती थी 

गैस के बर्नर की नीली आग पर

धूल की झाड़न में

तो कभी सर्दियों वाली धूप में

 

तो कभी कभी

दफ्तर के लंच की चपातियों में 

टेबल पर रखी फाइलों और रिपोर्टों में 

काम से ही अपनी क़रीबी थी

 

कुछ पसीने की बूंदें और महक 

देह में चिपकाकर 

 लौट आती शाम को 

कामकाजी के पैर लेकर

 

रात अपनी थी 

बिल्कुल अपनी 

मुझे अंधेरे से बैर नहीं था

मैंने रात का याराना कमाया था 

अपनी बनती थी 

 

अभी तक इश्क़ नहीं था 

हाँ, गुलमोहर के फूल ज़रूर थे 

पता नहीं क्यों मेरे मन के निकट हैं ये 

कुछ बजते गीत और साथ गुनगुनाते मेरे होंठ 

बस यही था रोमांस 

 

मैं ख़ुद को इतना चाहती थी 

कि कभी किसी के नाम के

फूल को भी किताब में जगह न दी 

पिचके फूल, क्योंकर 

मुहब्बत की निशानी हुए 

यही सोचती थी 

 

पर तुम आ गए, हाँ तुम 

सब जमा-पूंजी लूट ली

हलचल मचा दी 

अजब था कि इस लुटने में 

भी मज़ा आ रहा था

 

फिक्स डिपॉज़िट बिना ज़रूरत 

के टूट गया, ख़ुद-ब-ख़ुद 

पहली बार मालूम चला 

कि फिक्स रहने में नीरसता है 

हम यहाँ प्रेम के लिए हैं 

हाँ, शत प्रतिशत प्रेम के लिए 

 

पर मैं और तुम -हम’में तब्दील नहीं हो पाये 

धूप में सूखते हुए स्वेटर की दो बाजूएँ

ही बने रह गए

तुम ठहरे आज़ाद परिंदे

और मैं नन्ही सी चिड़िया

मुझे घोंसले की ही इच्छा ले डूबी

 

तुम आए और क्या ख़ूब लौट गए

जैसे तुम, तुम न हो 

कोई समंदर का 

ज्वार भाटा हो 

जितने प्रेम गीतों के साथ आए 

उतने ही सन्नाटे के साथ गए

 

अब सन्नाटा, चांटा मारता है 

हवा में दम निकलता है 

चंदनिया जैसे चिढ़ाती है

तारे मुंह बिचकाते हैं 

कल ही तो रात से झगड़ा हुआ 

अपना दोस्तना-याराना गया

 

ओह! मैं क्या करूँ 

मैंने तुम्हें दुबारा दस्तक़ दी 

उम्मीद के साथ दस्तक़ दी 

तुम्हारी आज़ादी के मद्देनज़र 

मैंने अपने को चिड़िया से कबूतरी 

बनाना चाहा, प्रेम की

 

... तुम नहीं माने 

 

अब फूल को किताबों के 

पन्नों में, मैं पिचकाती हूँ 

थोड़ा सा गम और एक हल्की हंसी 

बस पी जाती हूँ 

 

कुछ दिन पहले सोचा 

ऐसे बात नहीं बनेगी 

इंसान हूँ, सो कुछ तो करूंगी 

समाधि और मोक्ष की तमन्ना में खोट है 

इसलिए चंद पेड़ लगाने की सोच है 

 

क्या हुआ जो प्रेम कहीं पहुँच नहीं पाया

करने में ही कितना पाया

प्रेम का जो अब अवशेष बच गया है

वह अब गुलमोहर के रूप में

 

 

 

 

  उगाने का मन है 

 

प्रेम ज़िन्दगी विरह ह्रदय

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..