कलमकार सत्येन्द्र सिंह

Abstract Tragedy

4.4  

कलमकार सत्येन्द्र सिंह

Abstract Tragedy

कन्या

कन्या

1 min
305


इस बार भी नवरात्रि में ही उनकी बहू की जचगी होनी थी।

सास आरती कर के निकली ही थी कि बेटी के मुंह से निकला कि नवरात्रि में कन्या आ जाए तो मज़ा आ जाए।

“कभी तो शुभ शुभ बोल दिया कर” – कहते हुए सास अस्पताल जाने की तैयारी करने लगी।


Rate this content
Log in

Similar hindi story from Abstract