vijay laxmi Bhatt Sharma

Inspirational


3.5  

vijay laxmi Bhatt Sharma

Inspirational


डायरी पन्द्रहवाँ दिन

डायरी पन्द्रहवाँ दिन

4 mins 288 4 mins 288

प्रिय डायरी आज उठते ही कुछ यूँ घटित हुआ... सुबह सुबह ही पिताजी की स्मृतियों ने घेर लिया... इसका कारण ये भी हो सकता है शायद जब भी निराशा ने घेरा तो पिताजी की सीख ने आशा की एक किरण जगाई... पिताजी जिन्होंने अपने जीवन मे कई संघर्ष कई उतार चढ़ाव देखे... संघर्षों ने ही उन्हें मजबूत चट्टान बना दिया वही शिक्षा उन्होंने मुझे भी दी... उनका उस समय में भी ये कहना की “लड़की हो ये सोचकर अपने आप को कमजोर मत समझो तुम इस समाज की कर्णधार हो... मस्तक ऊँचा रखो और कर्तव्य पथ पर बढ़ो” मेरे जीवन के आधार हैं। स्वाभिमान से जीना मैने अपने माता पिता से ही सीखा है...

 आज जब कारोना वाइरस की वजह से विश्व भर मे लाक्डाउन की स्थिति है तब हर इनसान अपने आपको बहुत बड़ा दानी समझ दान के फोटो खिंचवा पोस्ट कर अपनी शेखी बघार रहा है .... कैसे भले हुए हैं हम की हर तरफ खौफ़ है तेरह लाख से ज़्यादा संक्रमित व्यक्ति और सत्तर हज़ार से ज्यादा मौत विश्व भर मे अकेले भारत मे पाँच हज़ार से ज़्यादा संक्रमित और डेड़ सौ मौत ... चौंका देने वाले आँकड़े और अभी भी हम दिखावे में जी रहे हैं।


ऐसे मे पिताजी की स्मृतियों से एक बात और की अगर समर्थ हो तो दूसरों की मदद ज़रूर करना... जबतक दान देने वाले ऊपर के हाथ के नीचे सहारा नहीं होगा दूसरा हाथ नहीं होगा तो वो दान व्यर्थ होगा इसलिए दाता और भिक्षुक एक दूसरे के पूरक हैं.... कोई बड़ा और छोटा नहीं होता।


माँ कहती है जो किसी को कुछ नहीं देना तो बेकार उपदेश भी मत दो ना ही दूसरे को नीचा दिखाओ क्यूँकि माँगने वाला पहले ही स्वाभिमान को दरकनार कर आपकी दहलीज़ तक पहुँचा है फिर उसको कुछ देना भी नहीं और झिड़की देना मूर्खता है माँ की इस अवसर पर एक कहावत बहुत चर्चित रहती है.... “माई भिक्षा नहीं देनी मत दे

पर अपने भुँकने वाले जानवर को सम्भाल।"

     

सोच रही थी इतनी शिक्षा इनकी जीवन की तपस्या का ही तो निचोड़ है... पिताजी हमेशा खुद की मेहनत पर विश्वास करने की ही बात करते थे... उनके विचार मे वही मनुष्य तरक्की करता है जो अपनी मेहनत से आगे बढ़ता है... जो आत्मविश्वासी है और जिसे अपने पर भरोसा है। साथ ही उनका कहना था अपने आप से प्यार करो तभी तो दूसरों को भी प्यार कर सकोगे।

प्रिय डायरी मेरी सखी आज इस भय के वातावरण में माता पिता की शिक्षाएँ मेरा संबल बड़ा रही हैं मुझे इस विपदा से जूझने का हौसला दे रही हैं। 

पिताजी की सोच थी हमेशा उनका आदर करो जो हर वक्त ऐसा काम कर रहे हैं जो देशहित मे है और अन्नदाता किसान का उपकार कभी मत भूलो... उनका कहना था तुम कितने बड़े आदमी हो जाओ... कितनी दौलत कमा लो पेट की अग्नि अन्न से ही शान्त होती है इसलिए किसान हमारा भगवान है.... और आज उनकी इस शिक्षा को मान मै रोज उन देश सेवकों का धन्यवाद कर रही हूँ जो विपदा के समय मे भी अपने कर्तव्य निर्वाह में लगे हैं ... उस अन्नदाता किसान का आभार व्यक्त कर रही हूँ जिनके रात दिन बहाए पसीने की वजह से हम भूखे नहीं हैं ... हमारे अन्न के भंडार भरे हुए हैं।

  

प्रिय डायरी पिताजी की स्मृतियों से आँखें नम हैं आज वो मेरे पास तो नहीं पर अपनी शिक्षा की पोटली ले हमेशा मेरे साथ हैं... माँ आज मेरे बच्चों को भी शिक्षित कर रहीं हैं पर इस लाक्डाउन मे उनसे भी मिलना नहीं हो रहा... प्रिय डायरी आज इतना ही ....रह रह कर पिताजी द्वारा गाई ये प्रार्थना आज याद आ रही है जिसने आज सुबह सुबह मस्तिष्क के तारों मे कंपन्न कर पिताजी की स्मृतियों की झड़ी लगा दी आप सबके लिए भी कुछ यूँ.... कल की नई सुबह के इंतज़ार में...


निर्बल के प्राण पुकार रहे, जगदीश हरे जगदीश हरे

सांसों के स्वर झंकार रहे, जगदीश हरे जगदीश हरे

आकाश हिमालय सागर में, पृथ्वी पाताल चराचर में

ये शब्द मधुर गुंजार रहे, जगदीश हरे जगदीश हरे

जब दयादृष्टि हो जाती है, जलती खेती हरियाती है

इस आस पे जन उच्चार रहे, जगदीश हरे जगदीश हरे

तुम हो करुणा के धाम सदा, शरणागत राधेश्याम सदा

बस मन में यह विश्वास रहे, जगदीश हरे जगदीश हरे


Rate this content
Log in

More hindi story from vijay laxmi Bhatt Sharma

Similar hindi story from Inspirational