Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!
Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!

Kumar Vikash

Romance

4.5  

Kumar Vikash

Romance

तुम्हे पाना चाहा

तुम्हे पाना चाहा

1 min
314


चाहत तो बहुत थी तुम्हे पाने की

मेरी नाकामी ने मुझे कहीं का न छोड़ा


इबादत से आगे बढ़के अपनाना चाहा

बेरूखी ने तेरी मुझे कहीं का न छोड़ा


टूटता रहा मैं फिर भी तुम्हे पाना चाहा

तेरी नाराजगी ने मुझे कहीं का न छोड़ा


बस एक तेरा चेहरा ही हमेशा नज़र आया

जो तेरा चेहरा न दिखा तो इश्क़ ए शीशा तोड़ा


झूठी तारीफें करना मुझे आता नहीं

शायद तभी तो तुमने मेरा दामन छोड़ा।


Rate this content
Log in

Similar hindi poem from Romance