Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

अमृता शुक्ला

Classics

4.5  

अमृता शुक्ला

Classics

सूरज निकलता है चांद ढलता है

सूरज निकलता है चांद ढलता है

1 min
379


सूरज निकलता है चांद में ढलता है 


दिन - रात का चक्र निरंतर चलता रहता है। 

मौसम किस तरह से रंग बदल जाता है। 

समेटे प्रकृति एक तिलिस्म अपने में 

सूरज निकलता है चांद में ढलता है।


शरद का चंद्रमा बिखेरता है चांदनी।

तारों से टका आंचल लगे है बांधनी। 

शुभ्र, धवल नभ धरा को बाहों में भरता, 

हवाएं भी छेड़े जा रही हैं कोई रागिनी।

नदिया का जल भी रजत सा संवारता है

सूरज निकलता है चांद में ढलता है 


शीत ऋतु कोहरे की चादर ओढ़ जाती है 

फूलों पर सुंदर तितलियाँ झूम इठलातीं

पेड़ पौधों से धूप छन-छन कर झांकतीं 

पंछियों के साथ कोयल भी  चहचहाती    

बर्फ की चादर में पारा कैसे पिघलता 

सूरज निकलता है चांद में ढलता है।


Rate this content
Log in

Similar hindi poem from Classics