End of Summer Sale for children. Apply code SUMM100 at checkout!
End of Summer Sale for children. Apply code SUMM100 at checkout!

सूरज का सिन्दूर !

सूरज का सिन्दूर !

1 min 539 1 min 539

चाहता हूँ अब हर शाम 

मैं भी उतरना तुझमे 

कुछ इस तरह से जैसे 

दिन भर का तपता सूरज 

शाम को समंदर में उतरता है।

 

तो उसकी लहरें कुछ यूँ 

लगती हैं कि जैसे उतर 

रहा हो उनका सारा का 

सारा नमक समंदर में  

और सूरज भर रहा हो 

तन्मयता से अपना सारा,

 

सिन्दूर उसमे ठीक वैसे ही 

मैं भी चाहता हूँ जब तुम 

अपने लबों को रख कर 

मेरे लबों पर गुजरो मुझमे से  

तो यूँ लगे जैसे की मेरे 

जिस्म से उतर कर मेरा

ही जिस्म चढ़ गया हो,

 

तुझ पर और मेरी रूह के 

पांव ना टिके धरती पर 

और वो बस उड़ती रहे 

हवाओं में !


Rate this content
Log in

More hindi poem from S Ram Verma

Similar hindi poem from Romance