Travel the path from illness to wellness with Awareness Journey. Grab your copy now!
Travel the path from illness to wellness with Awareness Journey. Grab your copy now!

Ajay Singla

Classics

5  

Ajay Singla

Classics

श्रीमद्भागवत -२०२; पूतना उद्धार

श्रीमद्भागवत -२०२; पूतना उद्धार

4 mins
393



श्री शुकदेव जी कहते हैं, परीक्षित

नंदबाबा जब मथुरा से चले

झूठे न होते वासुदेव के कथन

रास्ते में विचार करने लगे !


उत्पात होने की आशंका मन में

तब उन्होंने निश्चय किया ये

भगवान् की शरण में हम जाएं

वे ही हमारी रक्षा करेंगे !


क्रूर राक्षसी एक पूतना नाम की

काम बस मारना बच्चों को

कंस की आज्ञा से उन्हें मारने के लिए

नगर, बस्ती में घूमा करती वो !


आकाशमार्ग से चल सकती थी

इच्छानुसार रूप बना ले

एक दिन सुंदर स्त्री बनकर वह

आई नन्द बाबा के गोकुल में !


मधुर मुस्कान से अपनी और

कटाक्षपूर्ण चितवन से उसने

चित चुराया ब्रजवासिओं का

घुस गयी नंदबाबा के घर में !


वहां उसने देखा कि बालक

श्री कृष्ण सोये हैं शय्या पर

नेत्र अपने बंद कर लिए

श्री कृष्ण ने उसे देखकर !


कालरूप भगवान् कृष्ण को

पूतना ने उठाया गोद में

ऊपर से मधुर व्यवहार करे

किन्तु कुटिल वो ह्रदय से !


भद्र महिला के समान दीखे वो

रोहिणी और यशोदा ने इसीलिए

सौंदर्यप्रभा से प्रभावित हो उसकी

रोक टोक नहीं की उससे !


कृष्ण को गोद में ले पूतना ने

अपना स्तन दे दिया उनके मुँह में

बालक को मारने के लिए उसपर

विष लगा रखा था उसने !


क्रोध को अपना साथी बनाकर

भगवान् ने दोनों हाथों से

स्तनों को दबाया उसके और

प्राणों के साथ दूध पीने लगे !


प्राणों के लाले पड़े पूतना को

'अरे छोड़ दे ' बोलीं वो ये

पैर पटककर वो रोने लगी

लथपथ शरीर था पसीने से !


उसकी चिल्लाहट का वेग भयंकर

पातळ और दिशाएं गूँज उठीं

बहुत लोग पृथ्वी पर गिर पड़े

आशंका से वज्रपात की !


अपने को छिपा न सकी वो 

पीड़ा इतनी हुई थी उसे

राक्षसी रूप में प्रकट हो गयी

प्राण निकल गए शरीर से !


विशाल शरीर गिरते समय भी

कुचल गया कई वृक्षों को

शरीर बहुत भयंकर था उसका

डर लग रहा ग्वालों, गोपियों को !


गोपिओं ने जब देखा कृष्ण

निर्भय हो खेल रहे छाती पर

कृष्ण को उन्होंने उठा लिया

झटपट से वहां पहुंचकर !


यशोदा और रोहिणी के साथ में

गोपिओं ने गौमूत्र से फिर

नहलाया बालक कृष्ण को

गौ रज लगाई अंगों पर !


गोबर लगाकर फिर बारह अंगों में

केशव आदि नामों से भगवान् के

उनके अंगों की रक्षा के लिए

ये सब कहने लगीं वे !


' अजन्मा भगवान् तेरे पैरों की

मनिमान घुटनों की रक्षा करें

यज्ञपुरुष जांघों की और

अच्युत रक्षा करें कमर की !


हयग्रीव पेट की, केशव ह्रदय की

ईश वक्षस्थलों की, सूर्य कंठ की

विष्णु बाँहों की, अरुक्रम मुख की

और ईश्वर रक्षा करें सिर की !


चक्रधारी भगवान् रक्षा के लिए

तेरे आगे रहे, और गदाधारी श्री हरी पीछे

धनुष, खडग धारण करने वाले

मधुसूदन, अजान दोनों बगल में !


उपेंद्र ऊपर, हलधर पृथ्वीपर

शंखधारी अरुगाय चारों कोनों में

और भगवान् परम पुरुष तेरे

मन की रक्षा के लिए रहे !


हृषिकेश भगवान् इन्द्रियों की

नारायण प्राणों की रक्षा करें

श्वेतद्वीप के अधिपति दिल की और

रक्षा करें योगेश्वर मन की !


परमात्मा भगवान् अहंकार की रक्षा करें

और पृशनि भगवान् तेरी बुद्धि की 

चलते समय भगवान् वैकुण्ठ और 

बैठते समय भगवान् श्री पति ! 

 

रक्षा करें माधव सोते समय 

खेलते समय गोविन्द रक्षा करें तेरी

और भोजन के समय पर

रक्षा करें तेरी, भगवान् यज्ञपति !


डाकिनी, राक्षसी, वृद्धग्रह और बालग्रह 

आदि ये सभी अनिष्टों को

 णमोचरण करने से विष्णु का

नष्ट हो जाएं भयभीत हो !


श्रीशुकदेव जी कहते हैं, परीक्षित

इस प्रकार सब गोपिओं ने

प्रेम में बंधकर उनके

भगवान् की रक्षा की उन्होंने !


दूध पिलाया माँ यशोदा ने

पालने पर सुला दिया उनको

उसी समय नन्द बाबा और गोप सब

मथुरा से गोकुल पहुँच गए वो !


पूतना का भयंकर शरीर देख

आश्चर्चकित हो गए वे

कहने लगे, वासुदेव ने कहा जो

उत्पात आ रहा यहाँ देखने में !


तब तक व्रजवासिओं ने पूतना के

शरीर के टुकड़े कर दिए

जला दिया फिर उन टुकड़ों को

दूर ले जाकर गोकुल से !


शरीर से धुआं जो निकला 

अगर की सुगंध आ रही उससे

भगवान् ने दूध पिया था उसका

सारे पाप थे नष्ट हो गए !


जो मिलती है सत्पुरुषों को

वही परमगति मिली उसे

चरणों से शरीर दबाकर पूतना का

स्तनपान किया था भगवान् ने !


ब्रह्मा, शंकर, देवताओं द्वारा

वंदनीय हैं चरणकमल ये

माता को जो मिलनी चाहिए

उत्तम गति प्राप्त हुई उन्हें !


रतनमाला राजा बलि की कन्या

वामनावतार को जब देखा उन्होंने

पुत्र स्नेह का भाव उदय हुआ

उन्हें देख उनके ह्रदय में !


मन ही मन अभिलाषा करने लगी

मुझे बड़ी ही प्रसन्नता हो

यदि कभी इस बालक को

मैं अपना स्तन पिलाऊँ तो !


अपने भक्त बलि की पुत्री का

मनोरथ जान वामन भगवान् ने

मन ही मन अनुमोदन किया उसका

पूतना हुई वो ही द्वापर में !


श्री कृष के स्पर्श से

उसकी अभिलाषा पूर्ण हुई

और इसी से वो राक्षसी

परमपद को प्राप्त हुई !


ब्रजवासिओं के साथ नन्द जी

ब्रज में जब पहुंचे तो गोपों ने

पूतना के आने से मरने तक का

सारा वृतांत सुनाया था उन्हें !


पूतना की मृत्यु और कृष्ण की कुशलता 

सुनकर नन्द आश्चर्चकित हो गए

बहुत ही आनंद हुआ उन्हें

कृष्ण को उठा लिया गोद में |



Rate this content
Log in

More hindi poem from Ajay Singla

Similar hindi poem from Classics