Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

Geeta Upadhyay

Inspirational


4.3  

Geeta Upadhyay

Inspirational


श्री राम जी की पताका लहराई है

श्री राम जी की पताका लहराई है

1 min 27 1 min 27

दिन गुजरे साल निकले सदियों तक बिताई हैं

बलिदानों से पटी पड़ी सैकड़ों खाई है

अहम के कितने बादल फटे

झूठ की अनगिनत दीवारें ढहाई है

अपना घर होकर भी असंख्य रातें तंबू में बिताई हैं 

सत्य की राह में बेशक कठिनाई है

सहनशीलता धैर्य विश्वास ने ही विजय दिलवाई है 

भक्ति की शक्ति आज समझ में आई है


दिव्य और भव्य मंदिर के निर्माण की

खुशी में आँखें भर आई है 

इंतजार खत्म हुआ चारों और ख़ुशियाँ ही ख़ुशियाँ छाई है 

शिव जी ने डमरु मां शारदे ने वीणा बजाई है 

कान्हा की बंसी भी देने लगी सुनाई है 

हनुमान जी ने भी राम नाम की अलख जगाई है

दुल्हन सी सजी अयोध्या सुंदरता पर अपनी इतराई है

सदियों बाद श्रृंगार करके मुस्कुराई है 


चारों धामों की मिट्टी

पवित्र नदियों का जल

कितने अमूल्य है ये पल 

इस शुभ मुहूर्त के साक्षी होने की ईश्वर ने

हम सब पर कृपा बरसाई है

कुछ तो खास है प्रभु की लीला 

लाखों-करोड़ों में सिर्फ

मोदी जी ने ये जिम्मेदारी उठाई है 

पांच अगस्त दो हजार बीस की

वो शुभ घड़ी आई है

उन्होंने राम मंदिर निर्माण की

नींव पर पहली ईंट लगाई है

पूरे देश में आज मिलकर दीवाली मनाई है 

अंधेरी रात में भोर ने ली अंगड़ाई है

लगता है अयोध्या से उड़कर समीर आई है

सरयू का जल बोछारों में लाई है 

फिर से अवध में बहार आई है पूरे विश्व में 


"श्री राम जी की पताका लहराई है"


 


Rate this content
Log in

More hindi poem from Geeta Upadhyay

Similar hindi poem from Inspirational