Participate in the 3rd Season of STORYMIRROR SCHOOLS WRITING COMPETITION - the BIGGEST Writing Competition in India for School Students & Teachers and win a 2N/3D holiday trip from Club Mahindra
Participate in the 3rd Season of STORYMIRROR SCHOOLS WRITING COMPETITION - the BIGGEST Writing Competition in India for School Students & Teachers and win a 2N/3D holiday trip from Club Mahindra

Suresh Koundal

Romance


4.7  

Suresh Koundal

Romance


"सच्ची मुहब्बत "

"सच्ची मुहब्बत "

1 min 163 1 min 163

समेटता हूँ मैं तेरे हुस्न को 

इस कदर इन अल्फाजों में ।

मयखाना समेटना चाहे ज्यों ,

कोई शराबी चंद पैमानों में।।


बस गया है तू इस कदर,

मेरे ख्वाबों में,ख्यालों में ।

मदहोशियाँ बसती हैं ज्यों,

इन शराब के प्यालों में।।


तेरी चाहतें जगमगाएं ज्यों,

इस कदर मेरे दिल के अरमानों में ।

ये चांद ये सितारे जगमगाएँ ज्यों,

इन नीले - नीले आसमानों में ।।


हुए शुमार इस कदर हम,

मुहब्बत के दीवानों में ।

हुए फ़ना तो शामिल होंगे ,

सच्चे इश्क के अफसानों में ।।


Rate this content
Log in

More hindi poem from Suresh Koundal

Similar hindi poem from Romance