Click here for New Arrivals! Titles you should read this August.
Click here for New Arrivals! Titles you should read this August.

दयाल शरण

Abstract


4  

दयाल शरण

Abstract


मिल्कियत

मिल्कियत

1 min 355 1 min 355

गंवाइए तब, 

जब खुद कमाया हो,

विरासतों से मिल्कियत

आंकी नहीं जाती।


बादशाह आज हो

कल रहो ना रहो,

घरों को बेचकर जागीर

बनाई नहीं जाती।


सुबह उठेगा तो

क्या कहोगे उसको

तस्वीरों के हर रंग की

भरपाई नहीं होती।


हिसाब खुद ही लिखा

खुद ही मिटा दिया उसको

इस तरह तो किसी कर्ज की

माफी नहीं होती।


वो जानते थे मुझे

और मैं भी उन्हें जानता था

फिर भी हर बार तार्रुफ़

कोई सफाई नहीं होती।


मुझे मालूम है, 

मेरे हाथों में छोटी है लकीर

सिफारिशों से कोई लकीर

बढाई नहीं जाती।


तुम्हारी आंखें देखती

कुछ हैं और कहती कुछ हैं

बातियाँ दिए में बिना तेल

जलाई नहीं जाती।


खैरख्वाह इक तुम्हीं हो

खुदा भी तुम्हीं

मुल्क सभी का है मान लो, 

तो जगहँसाई नहीं होती।।


Rate this content
Log in

More hindi poem from दयाल शरण

Similar hindi poem from Abstract