Revolutionize India's governance. Click now to secure 'Factory Resets of Governance Rules'—A business plan for a healthy and robust democracy, with a potential to reduce taxes.
Revolutionize India's governance. Click now to secure 'Factory Resets of Governance Rules'—A business plan for a healthy and robust democracy, with a potential to reduce taxes.

सत्येंद्र कुमार मिश्र शरत

Abstract

4.5  

सत्येंद्र कुमार मिश्र शरत

Abstract

प्रेम

प्रेम

1 min
524


एकटक

झुकी

मुस्काती

आँखों में

झांकते हुए

किसी पुराने

आम के पेड़ के नीचे

या रेलवे स्टेशन के किसी कोने ----मंदिर--मेले में।


इस

लोक लुभावनी

बाजारू दुनिया

की कल्पनायें

मुझे 

कोरी झूठी

लगने लगती।


उस समय

कुछ भी

याद नहीं रहता

विश्वविद्यालय--क्लास शहर की भीड़--धुंध-- धुंआ --घुटन---।


थम सी जाती है 

जिंदगी

और 

समय का चक्र

हौले हौले मुस्काता

कहीं

खोया

खंघालता

इतिहास के प्रेममयी 

पन्ने।

नहीं सुनाई देते शाश्वत शब्द,

पतले

फड़कते होंठ,

गुलाबी, 

पसीने से  

चुहचुहाया चेहरा

जाने अनजाने

कह जाता

हजारों शब्द,

हजारों बातें,

अपनी ही भाषा में,

जिसे नहीं समझ पाएंगे

हृदय हीन,

बुद्धिजीवी ,

आलोचक।


  


Rate this content
Log in

Similar hindi poem from Abstract