Best summer trip for children is with a good book! Click & use coupon code SUMM100 for Rs.100 off on StoryMirror children books.
Best summer trip for children is with a good book! Click & use coupon code SUMM100 for Rs.100 off on StoryMirror children books.

Divya Naval

Abstract


4.8  

Divya Naval

Abstract


यह बड़ा शहर भी क्या चीज़ हैं ना

यह बड़ा शहर भी क्या चीज़ हैं ना

2 mins 3.2K 2 mins 3.2K

हज़ारो लोग, खुद मैं मशगुल;

भूल गये हैं क्या होता हैं बतियाना

यह बड़ा शहर भी क्या चीज़ है ना !


लाखों मकान हैं यहाँ, लाखों दूकान हैं यहाँ,

पर ना कोई मकान घर बना और

ना कोई दूकान दोस्तों का अड्डा

यह बड़ा शहर भी क्या चीज़ है ना !


बस मैं बैठे -बैठे, खिड़की से झांकते झांकते

सोच रही हूं, कहीं मैं भी ना भूल जाऊ घर जाना

यह बड़ा शहर भी क्या चीज़ है ना !


माँ -पापा सोचते हैं कहीं मैं उन्हें भूल ना जाऊं;

कैसे समझाऊ की चुभता हैं दिल मैं,

आपसे हर रोज़ बात ना कर पाना

यह बड़ा शहर भी क्या चीज़ है ना !


बस से उतरों, मेट्रो मैं चढ़ों,

और बस इसी तरह चलते रहो

मानों सब भूल गये हैं क्या होता हैं ठहरना

यह बड़ा शहर भी क्या चीज़ है ना !


जिसे हर कोई बातूनी कहते थे,

खबर आयी हैं उसकी भी

वो ना बतियाने का ढूँढती हैं अब बहाना

यह बड़ा शहर भी क्या चीज़ है ना !


हमने अकेलेपन को आज़ादी

का नाम दे तो दिया हैं

लेकिन कैसे छुपाऊ कि

कितना याद आता हैं घर का खाना

यह बड़ा शहर भी क्या चीज़ है ना !


हँसना -हँसाना और घर का

खाना तक तो ठीक रहा

दिन काटने को हम कह रहे अब जीना

यह बड़ा शहर भी क्या चीज़ है ना !


हर रात आके, तकिये पे

अपनी थकान डाल देती हूँ

नज़र-अंदाज़ करके,

वो सिरहाने पड़ा सपना

यह बड़ा शहर भी क्या चीज़ है ना !


Rate this content
Log in

More hindi poem from Divya Naval

Similar hindi poem from Abstract