Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

Tejeshwar Pandey

Tragedy

5.0  

Tejeshwar Pandey

Tragedy

मैं वही इंसान हूँ

मैं वही इंसान हूँ

1 min
376


कल तक जो सबको

हँसना सिखाता था

मुश्किलों का सामना

करना सिखाता था।


जो कहता था

चाहत में धोखा न देना

बेवफा कहलाने का

मौका न देना।


आज आपनों से

धोखा खाए बैठा हूँ

पलकों में आंसू

दबाये बैठा हूँ।


जो कल तक था

खुशियों का चमन

आज गमों से भरा हूँ

मैं वही इंसान हूँ !


Rate this content
Log in

Similar hindi poem from Tragedy