Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

Shailaja Bhattad

Abstract


3.5  

Shailaja Bhattad

Abstract


मापदंड

मापदंड

1 min 13 1 min 13

इस तंग सी जिंदगी में देखो

कितनी जंग है। 

इस दायरे में नहीं कोई संग है।

ना कोई खास है।

ना कोई आस-पास है। 

है तो बस डगमगाते कदम। 

दोहरी जिंदगी के दोहरे मापदंड।



Rate this content
Log in

More hindi poem from Shailaja Bhattad

Similar hindi poem from Abstract