Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

Shyam Kunvar Bharti

Drama

2  

Shyam Kunvar Bharti

Drama

कसम कैसे कैसे

कसम कैसे कैसे

1 min
310


मिले खुशी उनको किया जतन कैसे कैसे

मिलूँ न करूँ दीदार दिया कसम कैसे कैसे।


रखूँ महफूज उनको हर मुश्किलों बला से

उसी ने दिया मुझको है जख्म कैसे कैसे।


दिल के बदले मांगा दिल क्या गुनाह किया

खफा हो गए मुझसे मेरे वो सनम कैसे कैसे।


अब भी जिंदा उम्मीद लौट के आयेगा वो

मेरी वजह छोड़ गया शहरे वतन कैसे कैसे।


चाहो न चाओ मेरी नजर में रहो माना नहीं

याद में उसकी बहे मेरे अब नयन कैसे कैसे।


Rate this content
Log in

Similar hindi poem from Drama