Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

हम गजल है सुनाने लगे

हम गजल है सुनाने लगे

1 min 208 1 min 208

हाल दिल का बताने लगे

हम ग़ज़ल है सुनाने लगे !


सच बताने को मैंने कहा  

आप नजरें चुराने लगे !


चार पैसे हुए जब जरा

लोग बातें बनाने लगे !


बेवफाई का यारों यहां

वो हुनर आज़माने लगे !


दूर इंसान थे जो हुए

आज नज़दीक आने लगे !


जब मुसाफ़िर हुई तीरगी

दिल के दीपक जलाने लगे !


Rate this content
Log in

More hindi poem from धर्मेन्द्र अरोड़ा "मुसाफ़िर"

Similar hindi poem from Drama