Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

Omdeep Verma

Classics Tragedy

5.0  

Omdeep Verma

Classics Tragedy

दौलत के अंधे

दौलत के अंधे

1 min
477


अरे इतने भी बेगैरत मत बनो कि

अपनी काबिलियत की कीमत लगा दो 

दौलत की अंधता में इज्जतदार होकर भी

अपनी जिल्लत करा लो।


उस बाप से दहेज की मांग करते हो तुम 

जिसने अपने कलेजे का टुकड़ा तुम्हें सौंप दिया

 क्या दिया है कहकर तुमने उस पर

कलंक जिंदगी भर के लिए थोप दिया। 


उम्र भर की पाई- पाई करके जोड़ी पूंजी से

जिसने अपनी लाडली का ब्याह रचाया 

पर तुम दौलत के अंधों को उनकी

नम्रता का भाव कहाँ नजर आया 

जिसने सारी जिंदगी टूटी साइकिल पर गुजार दी 

कहां से ले दे वो कार तुम्हें।

 

किसी की फूल सी बेटी का तिरस्कार करते हुए

शर्म नहीं आती, हैं ! धिकार तुम्हें 

अरे बहन बेटी तुम्हारी भी है कैसा लगेगा जब

ऐसा उनके साथ हो

एक बार

उसका दु:ख अपने दिल पर ले कर तो देखो।

 

जिसके साथ नित्य का ऐसा पाप हो 

मत निचोड़ो खून किसी का

तुम्हारा भी उसी रंग का है 

अरे कुछ अपने कर्मों से भी कमा लो

या लालच सिर्फ पराए धन का ही है।


Rate this content
Log in

Similar hindi poem from Classics