Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

आखिर क्यों

आखिर क्यों

1 min 277 1 min 277

बड़ा मासूम सा चेहरा है बो बस गुलाब के जैसादेखा नही है है हमने जमीं पर कही हुस्न ऐसा

मेरे अरमानों को आज कल पंख लग गए है

ना जाने किस दुनिया के ख़्वाब बुनने लगे है


एक सूरत रोज़ आती है मेरे सपनों में आजकल

हम भी उसको दिल ही दिल पसंद करने लगे है


बड़ा मासूम सा चेहरा है वो बस गुलाब के जैसा

देखा नहीं है है हमने जमीं पर कही हुस्न ऐसा


जब भी गुजरता है मेरे पास से आकर कभी

हम उसे देख के ना जाने क्यों मुस्कारने लगे है


दिल किसी महफ़िल में अब मेरा लगता ही नहीं है

हर जगह ऐसा लगता है कोई है जिसकी कमी है


किसी से मिलने की आरजू मेरे दिल में होती ही नहीं

ना जाने क्यों हम अब रोज़ बनने संवरने लगे है


रोज़ सोचता हूँ आज करे देंगे हाले ए दिल बयान

क्या करूँ अब मेरा साथ देती नहीं है मेरी ज़ुबान


ना जाने कैसा वक्त है यह कैसा मौसम आया है के

हम खुद से सवाल करके खुद ही जवाब देने लगे है


तुमसे तो छुपा रखे है हमने सारे राज इस दिल के

ना जाने कैसे ना छुपा पाए हम लोगो की नजर से


मेरे आते ही चुप्पी सी छा जाती है हर महफ़िल में

मेरे पीछे अब सब मुझ पर क्यों मुस्कारने लगे है



Rate this content
Log in

More hindi poem from Vivek Netan

Similar hindi poem from Romance