Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

Rajit ram Ranjan

Romance


2  

Rajit ram Ranjan

Romance


आदत बड़ी गन्दी है

आदत बड़ी गन्दी है

1 min 351 1 min 351

बाहों में भर लो मुझे,

हवा बह रही बड़ी ठंडी-ठंडी है

ये मेरी ख़्वाहिश नहीं,

ख़ुदा की रजामंदी है


तुम रोज़-रोज़ जुल्फें लहरा कर,

मेरे घर के सामने से गुजरती हो, 

जानेमन ये आदत बड़ी गन्दी है


मैखाने कैसे जाऊँ,

आज तो ड्राई-डे है,

और जेब में भी बड़ी मंदी है

बाहों में भर लो मुझे,

हवा बह रही बड़ी ठंडी-ठंडी है...



Rate this content
Log in

More hindi poem from Rajit ram Ranjan

Similar hindi poem from Romance