Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
आहिस्ता आहिस्ता
आहिस्ता आहिस्ता
★★★★★

© Rewa Tibrewal

Romance

1 Minutes   1.3K    7


Content Ranking

आहिस्ता आहिस्ता

दिल कब पराया हो गया

पता ही न चला,

आहिस्ता आहिस्ता

कब वो मुझमे बस गया

पता ही न चला,

आहिस्ता आहिस्ता

कब मैं उसके सपनों

में खोने लगी

पता ही न चला

आहिस्ता आहिस्ता

कब उसका ख्याल,

उसकी बातें मेरी ज़िन्दगी बन गए

पता ही न चला

आहिस्ता आहिस्ता

कब मेरी हँसी ,मेरी खुशी ,मेरे आंसू सब

उससे जुड़ गए पता ही न चला

आहिस्ता आहिस्ता

कब उसके दिल उसकी बाँहो में मैं

बसने लगी पता ही न चला

आहिस्ता आहिस्ता

कब मेरी हर धड़कन

हर साँस उसकी हो गई

पता ही न चला

आहिस्ता आहिस्ता

कब एक दिन उसकी बाँहो में

मैं अपनी आखिरी साँस लुंगी

पता ही न चलेगा .......

ख़ुशी आसूं एहसास ख़्याल

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..