Vijaykant Verma

Tragedy


4  

Vijaykant Verma

Tragedy


मजबूर लड़की

मजबूर लड़की

3 mins 23.7K 3 mins 23.7K

विभा घर में अकेली रहती थी, क्योंकि कुछ साल पहले उसके मां-बाप की एक रोड एक्सीडेंट में मृत्यु हो गई थी। लड़की होने के कारण उसके रिश्ते-नातों ने भी उसका साथ नहीं दिया। और जिन रिश्तेदारों ने उसे सहारा दिया, उन्होंने भी मौका पाकर उसके जिस्म का शोषण ही किया। इसलिए वह अपने घर में अकेले रहने पर मजबूर थी।

18 साल की खूबसूरत विभा की जवानी पर कुछ गुंडों की बुरी नजर थी। वो अक्सर उस पर फब्तियां कसते और उसके साथ गंदी बातें करने की कोशिश करते। एक दिन रात में ये गुंडे उसके घर में घुस गए और उन्होंने उसके साथ गैंगरेप किया। 

विभा ने पुलिस में रिपोर्ट लिखाई, मगर उन गुंडों के विरुद्ध कोई कार्रवाई नहीं हुई। उसके कुछ समझ में न आया कि अब वो क्या करें। घर में अकेले रहने में अब उसे बहुत डर लगता था।

गैंग रेप होने के बाद उसकी स्थिति और भी असहनीय हो गई। अब जब भी वह घर से बाहर निकलती, सब घूर घूर कर उसे देखते और आपस में बातें करते, कि बयही वह लड़की है जिसके साथ कुछ लोगों ने रेप किया था।

एक दिन दिन-दहाड़े उसके घर तीन चार लड़के आये और उसके साथ छेड़खानी करने लगे। वो चिल्लाई, और उसकी आवाजमोहल्ले वालों ने सुनी भी लेकिन उसे बचाने कोई ना आया।

तब उन लड़कों ने विभा से कहा, "देख लड़की, ये शरीफों का मोहल्ला है। और तू चार पांच लोगों से मौज मस्ती ले चुकी है। इसलिए हम लोगों का भी दिल खुश कर दे, नहीं तो तुझको आवारा बताकर तेरा जीना मुश्किल कर देंगे हम। और इस बात को भी दिमाग में अच्छी तरह से भर ले, कि यहां जिस लड़की का एक बार रेप हो जाता है, उसका कोई साथ नहीं देता।

फिर एक-एक कर उन चारों लड़कों ने उसके साथ रेप किया। और जाने से पहले धमकी दे गए, कि तू किसी से कुछ नहीं बोलेगी। और अगर किसी से तू कुछ बोलेगी, तो आगे से हम और बुरी तरह पेश आएंगे..! यह कहकर वह चारों लड़के चले गए।

लेकिन एक बार फिर वो थाने में गई रिपोर्ट लिखाने। इस बार थानेदार ने कहा, कि अकेले क्यों आई है? किसी को साथ ले आ। सिर्फ इतना ही नहीं उसके साथ दुर्व्यवहार भी किया गया और गंदे कमेंट किए गए! मसलन तू अकेले क्यों रहती है..? किसी के साथ क्यों नहीं रहती..? तू खुद गलत है..और..अपशब्द...

विभा क्या करती..! वो वापस घर आ गई..!

उस दिन के बाद से अब अक्सर कोई न कोई उसके घर आता है। उसके जिस्म को निचोड़ता है...! और चला जाता है।

अपने इस जीवन से तंग आकर एक दिन उसने निराश्रित महिलाओं के एक अनाथालय जाने की सोचा। लेकिन जैसे ही वो अनाथालय के गेट पर पहुंची, उसने दो लड़कियों को अनाथालय की दीवार फांद कर भागते हुए देखा। उसने दौड़ कर उन लड़कियों का पकड़ लिया। तब लड़कियां उसके आगे गिड़गिड़ाना लगी-"प्लीज मेरे को जाने दे! यहां हमें भूखा मारा जाता है और हमारे जिस्म को नोचवाया जाता है। हमारे जिस्म को नोचने वालों में बुड्ढे, जवान और हर तरह के लोग होते हैं। बहुत जुल्म होता है हम पर..!" 

विभा ने उनके मुंह से जब यह सुना, तो सन्न रह गई। उसने उनको जाने दिया और वापस अपने घर आ गई।

अब उसने अपनी जिंदगी को अपनी किस्मत के सहारे छोड़ दिया है, इस उम्मीद से, कि शायद मेरे जिस्म को नोचने वाले इन भेड़ियों में कभी कोई भला आदमी भी मिल जाए, जिससे मेरे दिल के अरमानों में भी खुशियों के दो फूल खिल जाए..!


Rate this content
Log in

More hindi story from Vijaykant Verma

Similar hindi story from Tragedy