Read #1 book on Hinduism and enhance your understanding of ancient Indian history.
Read #1 book on Hinduism and enhance your understanding of ancient Indian history.

Hansa Shukla

Inspirational


4.5  

Hansa Shukla

Inspirational


मानवता

मानवता

1 min 288 1 min 288

कोरोना को लेकर पूरे शहर में दहशत था कल जनता कर्फ़्यू है सोचकर मीरा परेशान हो रही थी।कल काम पर नही जाएगी तो चूल्हा कैसे जलेगा,बेटे की फीस जमा करनी है इसी उधेड़बुन में उसकी रोजी लेने की बारी आ गई ठेकेदार ने दोगुनी रोजी दिया तो मीरा ने कोतुहलवश पूछ लिया साहब कल भी काम पर आना है क्या?                                   

ठेकेदार ने मुस्कुराते हुवे जवाब दिया नही कल से अचानक जनता कर्फ्यू लगा है कल घर से निकलना नही है तुम लोग रोजी पर आओगे नही तो चूल्हा कैसे जलेगा इसलिए दो दिन की रोजी दे रहा हूँ,कल घर से बाहर मत निकलना समझी चल आगे बढ़। मीरा आगे बढ़ गयी उसके दोनों हाथ धन्यवाद की मुद्रा में जूड़े हुवे थे वह भगवान को धन्यवाद दे रही थी आपकी ऐसी ही रचना के कारण मानवता जिंदा है कभी मालिक के पैर में कांटा न चुभे आशीर्वाद देते हुए आगे बढ़ गईं।।


Rate this content
Log in

More hindi story from Hansa Shukla

Similar hindi story from Inspirational