Hansa Shukla

Inspirational


4.8  

Hansa Shukla

Inspirational


बछिया का धन्यवाद

बछिया का धन्यवाद

1 min 258 1 min 258

चौराहे से अनिमेष की कार चौराहे से आगे बढ़ी ही थी कि थोड़ी दूर जाने के बाद सारी गाड़ियो के पहिये रुके हुये थे और लगातार हार्न की आवाज आ रही थी। पास पहुँचने पर पता चला कि गाय,भैस के बीच मे आ जाने से आवाजाही में रुकावट हुआ है। इसके बाद भी कुछ दुपहिया गाड़ी किनारे से निकल रहे थे और रुकी हुई गाडियों में अधिकांश हॉर्न देकर इन मूक जानवरो को हटने के लिए बाध्य कर रहे थे। सभी मवेशी जो रोज उस रास्ते से जाते थे एक लाइन बनाकर रोड पार कर रहे थे। एक छोटी बछिया जो शायद आज पहली बार निकली थी वो हॉर्न की आवाज से कभी आगे- कभी पीछे,कभी दाएं-कभी बाएं भटक रही थी।अनिमेष धीरे-धीरे बछिया के पास गया और इशारे से वाहन चालकों को हॉर्न बजाने से मना किया ,बछिया थोड़ी सामान्य हुई तो उसने उसे सड़क के पार खड़ी उसकी माँ से मिला दिया वह छलाँग लगाते हुये अपनी माँ के पास पहुंच गई और पलटकर अनिमेष को ऐसे देख रही थी जैसे उसे धन्यवाद दे रही हो।

अनिमेष गाड़ी में आकर सोच रहा था काश इन मूक जानवरो के आने-जाने के समय हम बिना शोर किये किनारे से गाड़ी निकाल लें या थोड़ी देर रुक जाएं तो इन्हें परेशान होने से बचा सकते हैं उसे बछिया का वह मौन धन्यवाद वाला चेहरा याद आ रहा था।


Rate this content
Log in

More hindi story from Hansa Shukla

Similar hindi story from Inspirational