Hansa Shukla

Inspirational

3.5  

Hansa Shukla

Inspirational

चॉकलेट डे

चॉकलेट डे

1 min
102


सौरभ की कार लाल बत्ती के सिग्नल से चौराहे में रुक गई वह चॉकलेट डे में रुचि के लिये चॉकलेट बॉक्स लेकर जा रहा था। अचानक उसकी नजर बच्चों की टोली पर पड़ी जो गाड़ियों के रुकने पर सामान बेचने का प्रयास कर रहे थे, या भीख मांग रहे थे, मैले कुचले कपड़े और बेतरतीब बिखरे बाल में उन मासूम बच्चों को देखकर सौरभ ने गाड़ी सड़क किनारे रोक ली और उन्हें बुलाकर बॉक्स से चॉकलेट देने लगा। उसने सभी गुब्बारे खरीदकर उन बच्चों में बाँट दिया बच्चे उसे चॉकलेट वाले भैया कह रहे थे। सौरभ बच्चों के निश्छल मुस्कान को देखकर सोच रहा था उसका सबसे अच्छा चॉकलेट डे आज सेलिब्रेट हुआ।


Rate this content
Log in

Similar hindi story from Inspirational