Praveen Gola

Romance


3  

Praveen Gola

Romance


ज़रूरी है

ज़रूरी है

1 min 24 1 min 24

कितने दूर हो गए हम अब तन्हाई में पता चलता है ,

जब दिन रात गुजर जाते हैं ,और ख्यालों का वक़्त भी ,

कम पड़ने लगता है।


मैं ये रोज़ सोचा करती हूँ ,कि आज तुम्हे बुला ही लूँगी ,

अपने प्यासे अरमानों मे ,तुम्हारे अरमानों को मिला ,

 एक नई हवा दूँगी।


पर ये वक़्त भाग जाता है ,और मैं हाथ मल रह जाती हूँ ,

और फिर घिर कर तन्हाई में ,तेरे साथ बिताए उन लम्हों को ,

अपने भीतर ही खींच लेती हूँ 


प्यार में मिलना ज़रूरी है ,नहीं तो बढ़ जाती एक दूरी है ,

फिर तन्हाई में ही ढूंढते रह जाते हैं ,उन खोए हुए लम्हों को ,

जिनकी सुगंध अभी भी अधूरी है।



Rate this content
Log in

More hindi story from Praveen Gola

Similar hindi story from Romance