Navneet Pandey

Romance


1.0  

Navneet Pandey

Romance


कैसे तुम्हे कह दें

कैसे तुम्हे कह दें

1 min 22.9K 1 min 22.9K

हम कैसे तुम्हें कह दें तुम्हें याद नहीं करते

पहले की तरह तुमपे दिन रात नहीं मरते

महफ़िल में हो अकेले तेरी बात नहीं करते

हम कैसे तुम्हें कह दें तुम्हें याद नहीं करते

 

तुम ही ने तो कहा था मेरे नैन हैं समंदर

एक बार जो भी डूबे फिर पार ना उतरते

कैसे बतायें तुझसे शिकवा नहीं है कोई

दिल से जिसे मिले हैं फिर मौत तक ना तजते

हम कैसे तुम्हें कह दें तुम्हें याद नहीं करते

 

बिसार हमें देना तुम तोड़ सारे वादे

सब तोड़ देना कस्में जो हो तेरे इरादे

पर तुमको ये बता दे हम आज भी वही है

एक बार करके वादे तोड़ा कभी ना करते

हम कैसे तुम्हें कह दें तुम्हें याद नहीं करते

 

कुछ भी नया नहीं है जो तुम बदल गए हो

ये दौर ही है ऐसा बदलाव चाहता है

तुमने किया वही जो ये वक़्त चाहता है

बदला नहीं जो करते आगे कभी ना बढ़ते

पर कैसे तुम्हें कह दें तुम्हें याद नहीं करते...

 


Rate this content
Log in

More hindi story from Navneet Pandey

Similar hindi story from Romance